कोरोना काल में कम्यूनिकेशन स्किल्स ही बनेगी जॉब पाने की कुंजी


इंजीनियरिंग कालेज में सात दिवसीय बेबीनार का शुभारंभ


रिपोर्ट : निर्णय तिवारी


छतरपुर : शहर के एकमात्र इंजीनियरिंग कालेज पं. देवप्रभाकर शास्त्री कालेज ऑफ टेक्नालाजी में कम्यूनिकेशन स्किल्स के महत्व को समझाने के लिए सात दिवसीय बेबीनार का शुभारंभ किया गया। जिसमें देश के जाने-माने वरिष्ठ सॉफ्ट स्किल ट्रेनर एवं कंटेंट डेवलपर सतीश आनंद कानपुर ने कोरोना काल में सुरक्षित तरीके से बच्चों को जॉब पाने के लिए कम्यूनिकेशन स्किल्स के महत्व की सारगर्भित जानकारी दी।


मप्र की तकनीकि यूनिवर्सिटी राजीव गांधी प्रौधोगिकी विश्वविद्यालय भोपाल के मार्गदर्शन में आयोजित सात दिवसीय बेबीनार के आयोजन में संस्थान के डायरेक्टर अशोक दीक्षित, सचिव श्रीमती सरोज जैन, प्राचार्य डॉ. जे. सोनी विशेष रूप से मौजूद रहे। बेबीनार में संस्थान के अलावा शहर के अलग-अलग इलाकों से भी बच्चों ने जूप ऐप के माध्यम से सहभागिता की। बेबीनार में सॉफ्ट स्किल ट्रेनर सतीश आनंद ने बच्चों को कम्यूनिकेशन स्किल्स के महत्व की समझाइश दी और कोरोना काल के पश्चात इसे नौकरी प्राप्त करने का एकमात्र मूलमंत्र बताया। उन्होंने कहा कि वर्तमान दौर में कोरोना संक्रमण पूरे देश में हावी है। ऐसे हालातों में कहीं भी जाना-आना खतरे से खाली नहीं है लेकिन उज्जवल भविष्य के लिए हमें जॉब की तलाश जरूरी होती है। संक्रमण जैसे हालातों से लड़ते हुए हमें रोजगारमूलक क्षेत्रों की तलाश के लिए कम्यूनिकेशन स्किल्स का ही सहारा लेना पड़ेगा। बेबीनार के पहले दिन उन्होंने बच्चों को ईमेल आइडी बनाने, उसका विश्लेषण, टाइटल सिलेक्शन और किसी भी अच्छे जॉब के लिए खुद को कैसे तैयार करने संबंधी जानकारी प्रदान की। इस मौके पर संस्था के प्राचार्य डॉ. जे. सोनी ने कोरोना से सजग रहने की सलाह देते हुए बच्चों के उज्जवल भविष्य और उचित मार्गदर्शन के लिए ऐसे आयोजन को बेहद उपयोगी बताया। श्री सोनी ने कहा कि पंडित देवप्रभाकर शास्त्री इंजीनियरिंग कॉलेज संस्थान में अध्ययनरत बच्चों को सही मार्गदर्शन देने के लिए इस तरह के सतत आयोजन कर रहा है। बेबीनार में डायरेक्टर अशोक दीक्षित, सचिव श्रीमती सरोज जैन ने बच्चों को अच्छी पाने पर जोर देते हुए अपने घरों पर सुरक्षित रहने की नसीहत दी।


Comments