केडीएमसी की सफाई कर्मियों के प्रति उदासीनता से कर्मचारी नाराज


मांगे पूरी नही हुई तो 2 सितंबर से करेंगे काम बंद आंदोलन


रिपोर्ट : प्रमोद कुमार


कल्याण : मुंबई व नवी मुंबई महानगर पालिका की तरह ही सफाई कर्मचारियों को कोरोना सुरक्षा के उपकरण व विविध सुविधा उपलब्ध कराने की मांग को लेकर महानगर सफाई कर्मचारी संघ ने आयुक्त को निवेदन पत्र देते हुए कहा कि यदि उनकी मांग पूरी नहीं हुई तो वह आगामी 2 सितंबर से काम बंद आंदोलन का रास्ता अपनाने को मजबूर हो जाएंगे ।


गौरतलब हो कि कोरोना जैसी महामारी में अपनी जान हथेली पर रखकर शहर में सफाई के प्रति जागरूक रहने वाले सफाई कर्मचारियों के लिए नवी मुंबई महानगरपालिका वह मुंबई महानगर पालिका ने विविध व्यवस्था कर रखी है ताकि कोई भी कर्मचारी इस मुश्किल की घड़ी में किसी भी तरह से खुद को असुरक्षित महसूस ना कर सके, परंतु वही कल्याण डोंबिवली महानगरपालिका के अंतर्गत काम करने वाले सफाई कर्मचारियों की सुरक्षा और उनके परिवार की सुरक्षा के लिए कोई भी ठोस कदम मनपा द्वारा नही उठाया गया है. यही नहीं गिला व सूखा कचरा अलग करने वाले कर्मचारियों को महीने में मनपा की तरफ से सिर्फ एक बाटली सैनिटाइजर, मास्क और हैंड ग्लव्स दिया जाता है जो कि पर्याप्त नही होते है और इससे उन पर कोरोना का संकट मंडराता रहता है यदि ऐसे में वे कोरोना की चपेट में आ गए तो उनके लिए मेडिक्लेम की भी सुविधा नही दी गयी है.


सफाई कर्मचारियों की इन सब समस्याओं को ध्यान में रखते हुए महानगर सफाई कर्मचारी संघ ने आयुक्त डॉ.विजय सूर्यवंशी को निवेदन पत्र दे मांग किया कि कर्मचारियों को प्रतिदिन 300 रुपये विशेष भत्ता, कर्मचारी व उसके परिवार के 3 व्यक्ति को 5लाख का मेडिक्लेम पॉलिसी, महीने में चार बार सैनिटाइजर, दो दिन पर मास्क एवम हैंड ग्लब्स उत्तम दर्जे का दिया जाय जिससे वे बेझिझक अपने काम को बखूबी से अंजाम देते जाए वही महाराष्ट्र राज्य अध्यक्ष भारत गायकवाड़ ने घनकचरा व्यवस्थापक विभाग उपायुक्त रामदास कोकरे को निवेदन पत्र देकर कहा कि अगर उनकी मांगों को मनपा द्वारा दरकिनार किया गया तो उनको मजबूरन काम बंद आंदोलन का रास्ता अपनाना होगा और आगामी 2 सितम्बर से सफाई कर्मचारी हड़ताल करने से पीछे नही हटेंगे हालांकि उनकी मांगों पर विचार कर उचित मार्ग निकालने का आश्वासन आयुक्त डॉ.विजय सूर्यवंशी ने दिया है ।


Attachments area


Comments