कलेक्ट्रेट सभागार में आपदा प्रबंधन समिति की बैठक सम्पन्न


रिपोर्ट : निर्णय तिवारी


छतरपुर : कलेक्टर शीलेन्द्र सिंह की अध्यक्षता में छतरपुर जिले में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए गठित जिला स्तरीय आपदा प्रबंधन समूह की बैठक आज कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में सम्पन्न हुई। बैठक के दौरान कलेक्टर श्री सिंह द्वारा उपस्थित सदस्यों को जानकारी दी गई कि समिति द्वारा पूर्व में दिए गए सुझावों के आधार पर जिले में बनाए गए कोविड केयर सेंटर एवं आइसोलेशन वार्ड में भर्ती मरीजों को उपलब्ध कराई जा रही व्यवस्थाओं में सकारात्मक परिवर्तन लाने का प्रयास जिला प्रशासन द्वारा नियमित रूप से किया जा रहा है। इसी के फलस्वरूप छतरपुर में कोरोना संक्रमित व्यक्तियों की संख्या में लगातार कमी हुई है, लेकिन वर्तमान स्थिति का आकलन करने उपरांत पाया गया है कि जिले में अभी भी लोगों के अंदर कोेरोना को लेकर भय बना हुआ है। जिस कारण अभी भी लोग कोरोना के लक्षण होने के बाद भी समय रहते टेस्ट नहीं करवा रहे हैं। ऐसा करना लोगों की जान के लिए हानिकारक भी सिद्ध हो रहा है।


कलेक्टर श्री सिंह ने उपस्थित सदस्यों से अनुरोध किया कि वह जिलेवासियांे को जागरूक करें और समझाएं कि वे सभी कोरोना के लक्षण होने पर तुरंत स्वास्थ्य विभाग एवं जिला प्रशासन को सूचित करें। समय पर कोरोना संक्रमण की पहचान एवं उपचार से संक्रमित मरीज को स्वस्थ्य करने की संभावना बढ़ जाती है साथ ही समय पर जांच हो जाने से कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा भी कम हो जाता है।


कलेक्टर ने पूल सैंपलिंग के दिए निर्देश


कलेक्टर श्री सिंह ने बैठक के दौरान सर्वसहमति से निर्णय लिया कि जिले के उन क्षेत्रों एवं मोहल्लों में जहां कोरोना संक्रमण के केस अत्याधिक मात्रा में पा जा रहे हैं उन सभी जगहों पर 50 वर्ष से अधिक आयु वाले व्यक्तियों की पूल सैंपलिंग कराई जाएगी। ऐसे व्यक्ति जो किसी कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति के सम्पर्क मेें नहीं आए हैं, जिनकी कोई ट्रेवल हिस्ट्री नहीं है एवं जिनकी पूल सैंपलिंग कराई गई है, उन सभी को सैंपल देने के पश्चात होम क्वारेंटाइन रहने की अनुमति दी जाएगी, लेकिन ऐसे व्यक्ति जो किसी कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति के सम्पर्क में आए हैं या जिनकी ट्रेवल हिस्ट्री है उन्हें गोरैया रोड स्थित कोविड केयर सेंटर में संस्थागत क्वारेंटाइन कराया जाएगा।


रविवार को सिर्फ दूध एवं दवाई की दुकानें खुलेगी


बैठक मेें उपस्थित सदस्यों द्वारा वर्तमान स्थिति को दृष्टिगत रखते हुए निर्णय लिया गया कि जिले में प्रत्येक रविवार को लगाया जा रहा लॉकडाउन आगे भी जारी रहेगा और केवल दूध की दुकानें प्रातः 7 बजे से दोपहर 12 बजे तक एवं दवाईयों की दुकानें 24 घंटे खोली जा सकेंगी। इसके अलावा फल-सब्जी, किराना एवं अन्य प्रतिष्ठान पूर्णतः बंद रहेंगे।


कलेक्टर श्री सिंह ने बताया कि अभी भी कुछ दुकान संचालक कोरोना से बचाव हेतु दिए गए नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं। यदि कोई भी दुकानदार कोरोना रोकथाम हेतु शासन-प्रशासन द्वारा जारी किए गए नियमों का उल्लंघन करता पाया गया तो संबंधित की दुकान 7 दिवस के लिए सील कर दी जाएगी। अगर उक्त दण्ड के पश्चात भी संबंधित द्वारा दुबारा नियमों का उल्लंघन किया गया तो संबंधित के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाएगी। कलेक्टर श्री सिंह ने बताया कि कोरोना से बचाव हेतु शासन द्वारा दिए गए निर्देशों के तहत जिले में कोई भी धार्मिक कार्य/त्यौहार का आयोजन सार्वजनिक स्थलों पर नहीं किया जाएगा। इसी के साथ एक समय में 5 से अधिक व्यक्ति एकत्रित नहीं हो सकेंगे।


बैठक में पूर्व राज्य मंत्री ललिता यादव, विधायकगण राजेश प्रजापति, आलोक चतुर्वेदी, राजेश शुक्ला, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक समीर सौरभ, एडीएम प्रेम सिंह चौहान, सांसद प्रतिनिधि सहित अन्य अधिकारी एवं समिति सदस्य मौजूद रहे।


 


Comments