जिले में होगी झोलाछाप पर कार्रवाई : सीएमओ


अहरौरा में गर्भवती की मौत पर विभाग आया एक्शन में


कोरोना काल के पहले भी अभियान चलाकर झोलाछाप पर की गई थी कार्रवाई


रिपोर्ट : टी0सी0विश्वकर्मा


मिर्जापुर, (उ0प्र0) : मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने जिले में झोलाछाप डाक्टरों पर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। यह निर्देश उन्होंने अहरौरा क्षेत्र में बुधवार को गर्भवती महिला की मौत हो जाने के बाद दिए हैं।


सीएमओ डा.ओ.पी तिवारी ने बताया कि अहरौरा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र परयह गर्भवती महिला मरणासन्न लाई गई थी। उसकी हालत बहुत खराब थी। डॉक्टर इलाज शुरू करते, इससे पहले उसकी मौत हो गई।


उन्होंने बताया कि महिला छह माह की गर्भवती थी और उसका इलाज एक झोलाछाप कर रहा था। हालत बिगड़ी तो महिला के घरवालों के हाथ-पांव फूल गए और वे उसे सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र ले आए। यदि उसे समय से सीएचसी परलाया जाता तो उसे बचाया जा सकता था। डॉ. तिवारी ने कहा कि कोरोनाकाल से पहले अभियान चलाकर झोलाछाप डाक्टरों को जेल भेजा गया था। अब फिर कार्रवाई होगी।


जिला कार्यक्रम प्रबन्धक अजय सिंह ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग की ओर से जनपद के सभी केन्द्रों पर तमाम सुविधाएं दी जा रही हैं जिससे क्षेत्र के मरीजों को किसी भी प्रकार की कठिनाई का सामना न करना पड़े परन्तु झोलाछाप के वजह से वे केन्द्र तक नहीं पहुंच पाते हैं और उनकी मृत्यु भी हो जाती है।इसलिए अब स्वास्थ्य विभाग झोलाछाप डाक्टरों पर बडी कार्रवाई करने जा रही है।


अहरौरा सीएचसी में संसाधन


सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र अहरौरा में प्रभारी चिकित्साधिकारी समेत तीन डाक्टर, 6 नर्स, 5 वार्डब्याय, 7 कमरेव 30 बेड मौजूद हैं। इसके अलावा केन्द्र पर डिलेवरी व नसबन्दी की सुविधा उलब्ध है।


 


Comments