एम-पूर्व विभाग की जनता को कोरोना कॉन्टेन्टमेंट रेड-जोन से बाहर निकालने में कम्युनिटी लीडरों ने निभाई अहम भुमिका


रिपोर्ट : यशपाल शर्मा


मुंबई : एम-पूर्व अंतर्गत आने वाले शिवाजीनगर-मानखुर्द विधानसभा क्षेत्र को रेड कॉन्टेन्टमेंट जोन से  बाहर निकालने का सारा श्रेय चार आईएएस, मनपा अधिकारियों सहित कम्युनिटी लीडर व डॉक्टरों की टीम ने असंभव से लक्ष्य को संभव बनाने में सक्रिय भूमिका निभाई ।


मुंबई के कोरोन संक्रमित रेड ज़ोन परिसरो में तीसरे नंबर पर पहुंच चुके गोवंडी राहीवासिय इलाके  को आज रेड कॉन्टेन्टमेंट जोन से बाहर निकालकर वर्तमान समय मे 17 वे पायदान पर पहुंचाया है ।वहीं एम-पूर्व के सहायक आयुक्त सुधांशू द्विवेदी के अनुसार जिसके कारण मौजूदा समय मे एम-पूर्व विभाग के 15 वार्डो के राहीवासिय क्षेत्रों से तकरीबन 3600 मामले आये है ।वहीं 3100 के करीब मरीज कोरोना संक्रमित से नेगेटिव आकर घर जा चुके है ।जबकि दूसरी और कोरोना संक्रमितों को लेकर मृत्यु दर 0.8 प्रतिशत पर आकर रुक चुकी है ।


वहीं एम पूर्व/पश्चिम के मनपा उपायुक्त भारत मराठे की अगर माने तो एक समय प्रशासनिक अधिकारियों में इस बात का भय साता रहा था कि मुंबई की सबसे बड़ी घनी आबादी वाली झोपड़पट्टी धारावी पूरी तरह से कोरोना की चपेट में आने से ,मुंबई की दूसरी घनी आबादी वाली गोवंडी के झोपड़पट्टी आने से प्रशासन के माते पर बल पड़ चुका था,प्रशासनिक अधिकारियों को डर सताने लगा कि धारावी के बाद अगर गोवंडी स्लम कोरोना महामारी की चपेट में आकर दूसरा धारावी कॉन्टेन्टमेंट जोन ने बने।वर्ना  लाशें दफनाने के लिये मुंबई के अस्पताल कम पड़ जाते ।


कैसे लड़ी आईएएस अधिकारी, मनपा अधिकारियों, कम्युनिटी लीडर व डॉक्टर ने कोरोना की लड़ाई


मामले को गंभीरता पूर्वक लेकर वर्तमान मनपा आयुक्त इक़बाल सिंह चहल ने चुनावती के तौर पर कोरोना महामारी को सुविकार किया ।कहा जाता है कि मनपा आयुक्त इकबाल सिंह चहल  ने अपने मार्गदर्शन में  मुंबई के 24 वार्डो में 4 आईएएस अधिकारियों की नियुक्ति कर टीम गठित किया ।एम पूर्व विभाग के लिये जोन-5 की  इंचार्ज थी  प्राजक्ता लावेंगर,व अतिरिक्त मनपा आयुक्त अश्विनी भिड़े के हाथों में कामन सौंपी।इनके सहयोग के लिये सेंट्रल से स्वस्थ टीम उतारी गई युद्ध क्षेत्र के मैदान में ।इन दोनों वरिष्ठ आईएएस अधिकारियों के मार्ग दर्शन में मनपा के स्कूलों के टीचर व  लोकल सामाजिक संस्थाओं के युवाओं कम्युनिटी लीडर   की टीमो  को प्रभावित क्षेत्रों में उतारा वहां के एक लोकल सहयोगी के साथ जो घर-घर जाकर नागरिकों को विश्वास में लेकर फीवर कैम्प ,कोरोना कोविड-19 के राजी करने लगे ।


कैसे दिया जनप्रतिनिधियों ने साथ


कहा जाता हैं कि  राजनीतिक पार्टियों के नेताओं ,जनप्रतिनिधियों ने भी जनता की मुसीबत पर उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर सहयोग किया । जिसमें से प्रमुख रूप से अपनी जान की परवाह न करते हुए ईशान्य मुंबई संसाद मनोज कोटक ने एम पूर्व में स्वतः दो महीने हर कैम्प को मॉनिटर कर रहे थे ,जिसके कारण 2700 कोरोना कोविड  के  टेस्टिंग एम-पूर्व झोपड़पट्टियों में हुई ।कुछ ऐसा ही काम अबु असीम आज़मी  का भी क्षेत्री जनता चर्चा करते नहीं थकती ।कहा जाता है कि शिवाजीनगर-मानखुर्द विधानसभा क्षेत्र की जनता के लिये कोरोना कोविड के उफान के समय घर मे बैठने की बजये कोरोना प्रभवित क्षेत्रों में मनपा आयुक्त की स्वस्थ टीमों के साथ मिलकर पूर्व विभाग का दौरा करते नजर आ रहे थे अब असीम आज़मी ।कोरण्टाईन सेंटरों की व्यवस्था सहित,शौचालयों को सैनिटाइज करवाया ,फोगहिंग करवाई ।


कैसे मिला मुंबई पुलिस का सहयोग, वही क्षेत्र की जनता पुलिस महकमे के अमूल्य योगदान को कभी नही भूलेगी 


मुंबई पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह के निर्देश पर जनता को कोरोना महामारी से बचाने के लिये 100 प्रतिशत लॉक डाउन करवाने के लिये अतिरिक्त पुलिस आयुक्त कानून व्यवस्था विनय कुमार चौबे ने अपने नेतृत में  ,पूर्व प्रादेशिक ज़ोन- 5  के अतिरिक्त सह आयुक्त लखिम गौतम व जोन -5 के उपायुक्त शशि सिंह मीणा को साथ लेकर दोनों पुलिस के आलाधिकारियों ने अपने कनिष्ठ अधिकारियों ,एसीपी वरिष्ठ पुलिस निरक्षको की सामूहिक मीटिंग लेकर कोरोना से प्रभावित गोवंडी राहीवासिय क्षेत्रों में फ्लैग मार्च किया । जनता को विश्वास में लिया कि अगर कोरोना से बचना है तो लॉक डाउन का उल्लंगन मत करे जनता। पुलिस को  24 घंटे घरों में बंद रहने वाले आक्रोशित जनता का आक्रोश भी झेलना पड़ा पुलिस अधिकारियों पर कोरोना पाश्वर भूमि में सबसे ज्यादा  हमले की खबर आई तो वो गोवंडी राहीवासिय क्षेत्र में ।



Comments