एक साल से ज्यादा समय बीत जाने पर भी नहीं लौटा विवेक, मां को हैं अपने लाडले बेटे का इंतजार

 



वाराणसी, (उ0प्र0) :  एक मां की आंखें अपने लाडले जवान बेटे का इंतजार में पथरा सी गई है। वह मां रोज रात भर जागती रहती है सिर्फ इसलिए कि कहीं उसका लाल आ तो नहीं गया। जी हां हम बात कर रहे हैं उत्तर प्रदेश के वाराणसी जनपद के कैन्ट थाना क्षेत्र के पांडेपुर स्थित पार्वती नगर कॉलोनी में रहने वाली आशा देवी पत्नी स्वर्गीय राकेश कुमार पांडेय की, जो जीवकोपार्जन हेतु एक नर्सिंग होम में कार्य करतीं हैं। उनके दो पुत्रों में लगभग एकतीस वर्षीय पुनीत पांडे व छोटा पुत्र लगभग अट्ठाइस वर्षीय  विवेक कुमार पांडे उर्फ छोटू कद लगभग 5 फीट 6 इंच रंग गेहुआ जो गत 30 जनवरी 2019 से घर से बाहर यह कह कर निकला था कि एक माह बाद घूम कर आ रहे है। किन्तु जब माह भर से भी ज्यादा समय बीत गया तो वह नहीं आए तो छोटू की मां आशा देवी परेशान हो उठी और चिंता भी करने लगी। चिंता भी लाजमी है, क्योंकि जिस बच्चे को जन्म देकर पाल पोस कर जवान कर  एक मां करती है तो उसको कितना गर्व होता है कि मेरा पुत्र अब जवान हो गया है और खुशी होती है। खुशी तब और बढ़ जाती  हैं जब उसका पुत्र कोई अच्छा स्रोत वाला कार्य करने लगता है और उसकी शादी और बच्चे हो जाएं तो फिर क्या बात है। यही सब अट्ठाईस वर्षीय युवक विवेक उर्फ छोटू व उसकी मां आशा देवी पर लागू होता है। छोटू का शादी भी हो चुका है और उसकी पत्नी व एक पुत्र भी है और छोटू वाराणसी के ही सिंडिकेट बैंक में कार्यरत हैं। किन्तु दुर्भाग्य वश इस समय लापता हैं। वही जब आशा देवी अपने कई जान-पहचान व रिश्तेदारों के यहां अपने पुत्र की खोज व जानकारी चाही तो सिर्फ उन्हें निराशा ही मिली और कहीं भी कोई सूचना उनके पुत्र के बारे में नहीं मिली। जब काफी थक हार गई तो 7 माह बाद गत 10 अगस्त 2019 को अपने पुत्र विवेक की गुमशुदगी की रिपोर्ट कैंट थाने में दर्ज कराई है। जिस पर वहां के इंचार्ज ने संबंधित चौकी इंचार्ज अर्दली बाजार को भेज दिया। किंतु कोई समाचार आशा देवी के पुत्र के बारे में नहीं चल सका है।


 


 


Comments