अमेरिका में बेरोजगारी बढ़ने के दावे से सोने को मिला सपोर्ट, क्रूड में कमजोरी कायम


मुंबई : गुरुवार को स्पॉट गोल्ड 0.68 प्रतिशत बढ़कर 1942.6 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुआ, क्योंकि अमेरिका में बेरोजगारी दावों के बढ़ते एक्सपोजर ने निवेशकों को सेफ हेवन गोल्ड की तरफ शिफ्ट करने में मदद की। 


एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के रिसर्च नॉन एग्री कमोडिटी एंड करेंसी एवीपी प्रथमेश माल्या ने बताया के 28 और 29 जुलाई 2020 को यू.एस. फेडरल रिजर्व पॉलिसी की बैठक के मिनट्स रिकवरी के उबड़-खाबड़ रास्ते की ओर संकेत करते हैं क्योंकि महामारी का प्रभाव लगातार बढ़ रहा है। अमेरिकी फेडरल रिजर्व के अतिरिक्त स्टिमुलस सपोर्ट की आवश्यकता को नीति निर्माताओं ने उठाया था जो सोने की कीमतों को मजबूत कर रहे हैं।


सोने के प्रमुख माइनर बैरिक में वॉरेन बफेट के बर्कशायर हैथवे के निवेश के कारण सोने की कीमतों को कुछ समर्थन मिला।


क्रूड ऑयल: अमेरिकी अर्थव्यवस्था में लगातार कमजोरी के कारण डब्ल्यूटीआई क्रूड 0.82 प्रतिशत की गिरावट के साथ गुरुवार को 42.6 डॉलर प्रति बैरल के स्तर पर बंद हुआ। कोविड-19 वायरस के फिर उभरने से तेल बाजारों में रिकवरी को धीमा कर दिया। यह बाजार पहले से ही मंदी की मार झेल रहे थे, जिसने कच्चे तेल की कीमतों में रिकवरी की संभावनाओं को कम कर दिया है। रिपोर्ट्स के अनुसार अमेरिकी नीति निर्माताओं ने इकोनॉमिक आउटलुक पर चिंता व्यक्त की और तेल बाजारों में संभावित सरप्लस ने क्रूड की कीमतों को कम कर दिया।


अमेरिकी क्रूड इन्वेंट्री के स्तर में 1.6 मिलियन बैरल की गिरावट आई, जिससे तेल की कीमतें 14 अगस्त 20 को समाप्त सप्ताह में सीमित रही।


अमेरिकी तेल व्यापारियों, शिपब्रोकर, और चीनी आयातकों की रिपोर्ट के अनुसार चीन की सरकारी तेल कंपनियों ने अगस्त 20 में अमेरिकी क्रूड के लगभग 20 मिलियन बैरल के टैंकर बुक किए हैं। डॉलर में कमजोरी और चीन से मांग में वृद्धि ने क्रूड की कीमतों में गिरावट को सीमित कर दिया।


बेस मेटल: एलएमई बेस मेटल की कीमतें गुरुवार को कम हो गईं। ऐसा इसलिए था क्योंकि फेडरल रिजर्व के नीति निर्माताओं द्वारा दिए गए सतर्क आउटलुक पर बाजार की भावनाओं को तौला गया। संयुक्त राज्य अमेरिका-चीन के संबंधों को लेकर अनिश्चितता जारी है, क्योंकि फेज-1 ट्रेड डील की समीक्षा को स्थगित कर दिया गया था।


ग्लोबल प्राइमरी एल्युमीनियम का उत्पादन 2020 के जुलाई में 5.292 मिलियन टन से बढ़कर 5.452 मिलियन टन हो गया। इसी फ्रेम में, चीन का उत्पादन भी पिछले महीने दर्ज 3.03 मिलियन टन से बढ़कर 3.131 मिलियन टन हो गया।


इंटरनेशनल लेड और जिंक स्टडी ग्रुप की रिपोर्ट के अनुसार, जिंक का सरप्लस भी मई 2020 के 19 हजार टन के मुकाबले घटकर जून 2020 में 2000 टन रह गया।


तांबा: एलएमई कॉपर की कीमतें गुरुवार को 1.25 फीसदी बढ़कर 6601.5 डॉलर प्रति टन के स्तर पर बंद हुईं। आर्थिक स्थितियों में रिकवरी को लेकर चिंताओं की वजह से एलएमई इन्वेंट्री की कीमतें कम हो गई थीं।


Comments