विंध्यक्षेत्र में सेवा कर चुके 9 अधिशासी अभियंता अब अधीक्षण अभियंता हुए


रिपोर्ट : साकेत पांडेय


मिर्जापुर, (उ0प्र0) : देवाधिदेव महादेव को प्रसन्न करने वाले सावन माह का प्रभाव एक सप्ताह पूर्व से ही देखने को मिल रहा है। आध्यात्मिक मान्यताओं के अनुसार काशी प्रांत के अन्तर्गत आने वाला विंध्यक्षेत्र महादेव के शयन का क्षेत्र है। विश्वेश्वर के रूप में उनका आसन काशी में तो विश्राम के लिए विंध्यक्षेत्र में उनका आगमन होता है। अन्नोत्पादन के लिए  भगीरथ की प्रार्थना से अभिभूत महादेव की जटा से निकली गंगा की जलधारा से धरती अभिसिंचित और तृप्त अब तक हो रही है। इस पौराणिक आख्यान को साकार करने वाले सिंचाई विभाग में  जारी पदोन्नति सूची में 28 जून को सप्तर्षि के रूप में विंध्यभूमि में सक्रिय योगदान देने वाले 7 अधीक्षण अभियन्ता मुख्य अभियंता हुए थे तो मंगलवार, 30 जून को प्रोन्नति की दूसरी सूची में यहां सेवा कर चुके 9 अधिशाषी अभियंता मां विंध्यवासिनी के धाम में नवरात्रि महोत्सव में साधना कर जीवन और कर्म को जागृत करने के पर्व की तरह एक पायदान उपर होकर अब अधीक्षण अभियंता का आसन ग्रहण करेंगे ।


उल्लेखनीय योगदान- इसमें बाणसागर संगठन में रहे 4 अधिशासी अभियंताओं में श्री केपी पाण्डेय, श्री कुमार मंगलम, श्री हरिओम गुप्ता, श्री राम अभिलाष चौरसिया, श्री अजय प्रताप श्रीवास्तव, श्री कौशल रमण प्रजापति, श्री अजयकुमार वर्मा, श्री जितेंद्र सिंह कनोजिया हैं जबकि बाणसागर परियोजना में सहायक अभियंता के पद पर श्री जेपी यादव रहे ।


बाणसागर परियोजना के अदवा वैराज को अंतिम रूप देने में पदोन्नति प्राप्त श्री पांडेय का सक्रिय योगदान था । यहां के अति भव्य डाकबंगले की डिजाइन इन्होंने की। जिसे परियोजना के लोकार्पण के वक्त प्रदेश सरकार के जिन मंत्रियों, अधिकारियों ने देखा, उसे सराहा । पीएम के लोकार्पण के वक्त जिन उच्च अभियंताओं ने सक्रिय भूमिका निभाई थी, उसमें श्री कुमार मंगलम भी रहे जो अब अधीक्षण अभियन्ता हो गए। इस परियोजना में सहायक अभियंता और अधिशासी अभियंता दोनों रूप में विविध अवरोधों को समाप्त करने में श्री हरिओम गुप्ता एवं श्री राम अभिलाष चौरसिया का उल्लेखनीय प्रयास रहा है, श्री चौरसिया कनहर परियोजना में भी अधिशाषी अभियंता रहे हैं । उनकी भी पदोन्नति हुई है जबकि श्री अजय कुमार वर्मा खंड 3में, श्री अजय प्रताप श्रीवास्तव खंड 11में तथा श्री जितेंद्र सिंह कनोजिया कनहर परियोजना में अधिशासी अभियंता रहे हैं । सहायक अभियन्ता के रूप में श्री जेपी यादव बाणसागर में सहायक अभियंता रहे हैं।


इन अभियंताओं की जनसहभागिता ही इसे कहेंगे कि दूर-दराज की तैनाती के बावजूद विंध्यधाम से उनके यशस्वी जीवन  की कामना लोग कर रहे हैं।


Comments