Unnao : जिलाधिकारी ने दिए जल्द से जल्द डाटा फीड कराने के निर्देश


जिलाधिकारी ने दिए निगरानी समितियों को सक्रिय रखने के निर्देश


गोवंशों को नहीं होनी चाहिए किसी भी प्रकार की समस्या


रिपोर्ट : तनवीर खान 


उन्नाव, (उ0प्र0) : जिलाधिकारी रवीन्द्र कुमार की अध्यक्षता में कल देर शाम विकास भवन सभागार में वैश्विक महामारी कोविड-19 से प्रभावित व्यक्तियों/ प्रवासी श्रमिकों के विवरण को राहत की वेबसाइट पर अद्यावधिक कराने/ फीड कराने एवं पात्र प्रवासी श्रमिकों/ व्यक्तियों को आर्थिक सहायता दिये जाने सम्बन्धी, डिस्ट्रिक ई गवर्नेंस सोसायटी, राहत पोर्टल पर डाटा फीड किए जाने संबंधी, पैदल एवं अन्य साधनों से आने वालों की फीडिंग, राशन किट वितरण, निगरानी समिति, रूपये 1000 प्रति खातेदारों को दिए जाने, श्रमिकों के स्किल मैपिंग की फीडिंग, मुख्यमंत्री कृषक सर्वहित बीमा योजना, गोवंश आश्रय स्थल, कान्हा गौशाला, एम0आर0एफ0 सेन्टर के कार्य प्रगति, शौचालय निर्माण शहरी, पी0एम0ए0वाई0 शहरी, पी0एम0 किसान योजना आदि बिंदुओं पर समीक्षा की गई।


बैठक में जिलाधिकारी ने समस्त उप जिलाधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि बचा हुआ डाटा तत्काल फीड करा कर सत्यापित कराएं तथा पैदल आने वालों की अलग फीडिंग कराएं। उन्होंने कहा कि समस्त उप जिलाधिकारी डाटा फीड करा कर प्रतिदिन समीक्षा करके मेरे समक्ष रिपोर्ट प्रस्तुत करें। उन्होंने समस्त उप जिलाधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि होम क्वारेंटाइन किये हुये व्यक्तियों को तत्काल किट वितरण कराना सुनिश्चित करें। जिलाधिकारी ने अपर जिलाधिकारी (वि/रा0) राकेश सिंह को निर्देशित करते हुये कहा कि यदि उप जिलाधिकारी स्तर से दिये गये निर्देशों का अनुपालन समय के साथ नहीं किया जायेगा तो सम्बन्धित के विरूद्ध दण्डात्मक कार्यवाही कराना सुनिश्चित करें।


तत्पश्चात् जिलाधिकारी की अध्यक्षता में गोवंश आश्रय स्थल की समीक्षा, कान्हा गौशाला, एम०आर०एफ० सेंटर की कार्य की प्रगति समीक्षा की गई। जिलाधिकारी ने मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा कि गोवंश आश्रय स्थल में जलभराव नहीं होना चाहिए। गोवंश पानी में या कीचड़ में नहीं खड़े होने चाहिए। मवेशियों को भूसा/चारे/पानी की भी कमी नहीं होनी चाहिए। गोवंश आश्रय स्थल में किसी भी तरह की लापरवाही क्षम्य नहीं होगी। तत्पश्चात् एम०आर०एफ० सेंटर के कार्यों की समीक्षा की गई, जिसमें जिलाधिकारी को अवगत कराया गया कि एम0आर0एफ0 सेन्टर निर्माण हेतु सभी निकायों को 33.67 प्रति निकाय की दर से धनराशि की स्वीकृति प्राप्त हुई है। सभी निकायों में भूमि उपलबध करा दी गई है। नगर पंचायत हैदराबाद में दिनांक 07 जुलाई 2020 को ई- निविदा खोली जानी है। अन्य निकायों में कार्य प्रगति पर है। जिलाधिकारी द्वारा सम्बन्धित को निर्देशित किया गया कि मिशन निदेशालय स्वच्छ भारत मिशन द्वारा निर्धारित गाइडलाइन्स, विशिष्टियों व डिजाइन के अनुसार गुणवत्तापूर्ण कार्य शीघ्र पूर्ण कराया जाये तथा अगली बैठक में भौतिक/ वित्तीय प्रगति से अवगत कराया जाये।


स्वच्छ शौचालयों की रिूथति पर चर्चा करते हुये जिलाधिकारी को अवगत कराया गया कि समस्त नगरीय निकायों में घरेलू शौचालयों का निर्माण हेतु लक्ष्य 18773 की पूर्ति की जा चुकी है। सामुदायिक शौचालयों में नगर पंचायत भगवन्त नगर में 10 सीटें, नगर पंचायत सफीपुर में 05, नगर पंचायत कुरसठ में 10, नगर पंचायत फतेहपुर-84 में 04, गंज मुरादाबाद में 04, नगर पंचायत मोहान में 10, नगर पंचायत नवाबगंज में 05 व नगर पंचायत रसूलाबाद में 10 सीटें लगाया जाना शेष है। अवगत कराया गया कि कार्य चल रहा है। जिलाधिकारी ने सम्बन्धित को निर्देशित किया कि इन अवशेष सीटों का कार्य भी शीघ्र पूर्ण करा लिया जाये तथा जिन इकाइयों में द्वितीय किश्त नहीं दी गई है शीघ्र ही द्वितीय किश्त स्थानांतरित की जाए। बैठक में जिलाधिकारी को अवगत कराया गया कि पिंक शौचालय का निर्माण पूर्ण किया जा चुका है, सार्वजनिक शौचालय में उन्नाव में 50, पुरवा में 06, मौरावां में 15, भगवन्त नगर में 20, बीघापुर में 05, सफीपुर में 06, ऊगू मे 20, कुरसठ में 20, गंज मुरादाबाद में 07, मोहान में 10, औरास में 20, नवाबगंज में 20, हैदराबाद में 20 तथा रसूलाबाद में 20 सीटों का निर्माण अवशेष है। जिलाधिकारी ने सम्बन्धित को निर्देशित करते हुये कहा कि सार्वजनिक शौचालयों को निर्माण कार्य शीघ्र निर्धारित मानकों के अनुरूप पूर्ण कराया जाए, सभी शौचालयों को चालू कराया जाए।


कोविड-19 की रोकथाम से बचाव हेतु सभी नगर पालिका परिषद/ नगर पंचायत कार्यालय में कोविड हेल्प डेस्क की स्थापना व क्रियावन्य किया जा रहा है। जिलाधिकारी ने समस्त अधिशासी अधिकारियों को निर्देशित करते हुये कहा कि समस्त अधिशाषी अधिकारी  कोविड हेल्प डेस्क की स्थापना व क्रियावन्य का स्पष्ट व साफ फोटोग्राफ मेरे व्हाट्सएप पर प्रेषित करें। स्वास्थ्य विभाग द्वारा दिनांक 05 से 15 जुलाई तक घर-घर जाकर गहन सर्वेक्षण किया जाएगा। सर्वेक्षण टीम को पूरा सहयोग प्रदान किया जाए। वृहद स्तर पर जन जागरूकता अभियान चलाकर यह सुनिश्चित करें कि प्रत्येक व्यक्ति मास्क लगाकर ही बाहर निकले व सोशल डिस्टेंसिंग का शत-प्रतिशत पालन करे। उप जिला अधिकारी संबंधित थाना प्रभारी के माध्यम से उल्लंघन करने वालों के विरुद्ध दंडात्मक कार्यवाही भी कराएं ताकि आमजन में इसका प्रभाव पड़ सके। जिलाधिकारी ने कहा कि पेट्रोल पंप व बाजार में दुकानों पर ‘‘दो गज दूरी बहुत जरूरी‘‘ का बैनर लगवाएं तथा दुकानों पर चेक करें कि दुकानदार और ग्राहक मास्क लगा रहे हैं या नहीं। पालन न करने वाले दुकानदारों पर जुर्माना लगाने के निर्देश दिये।


बैठक में संचारी रोग नियंत्रण पर चर्चा करते हुये समस्त अधिशासी अधिकारियों को निर्देशित किया गया कि कोविड-19 की ही तरह संचारी रोगों तथा दिमागी बुखार पर नियंत्रण हेतु साफ-सफाई, शुद्ध पेयजल, चूने/ एन्टीलार्वा का छिड़काव सुनिश्चित कराया जाए, बीच-बीच में सैनिटाइजेशन भी कराते रहें। ओवरहेड टैंक की सफाई व क्लोरीनेशन कराया जाये। निकाय क्षेत्र में खुले में शौच से रोका जाये। मच्छरों की रोकथाम हेतु नियमित फाॅगिंग कराई जाए। उन्होंने कहा कि इस संबंध में मुख्य सचिव व प्रमुख सचिव नगर विकास द्वारा दिये गये निर्देशों को गहनता से पढ़ लें और निर्देशों का शत् प्रतिशत अनुपालन सुनिश्चित करें। प्रतिदिन कृत कार्रवाई की रिपोर्ट प्रेषित करें। फर्जी रिपोर्टिंग पर संबंधित अधिशासी अधिकारी का उत्तरदायित्व निर्धारित करते हुए शासन को संस्तुति प्रस्तुत कर दी जाएगी। बैठक में अधिशासी अधिकारियों को निर्देशित करते हुये कहा कि साफ-सफाई पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है साथ ही उचित स्थानों पर डस्टबिन रखवाने के निर्देश दिये। उन्होंने प्रतिबन्धित पाॅलीथीन की कार्यवाही पर चर्चा करते हुये कहा कि अभियान चलाकर प्रतिबन्धित पाॅलीथीन की बिक्री व प्रयोग पर जब्ती व जुर्माने की कार्यवाही की जाए। उप जिला अधिकारी स्वयं भी अपने नेतृत्व में इस संबंध में कार्यवाही कराएं।


विकास कार्यों पर चर्चा करते हुये जिलाधिकारी ने सम्बन्धित को निर्देशित किया कि नगर निकायों में विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत चल रहे कार्यों व अनारम्भ कार्यों की सूची योजनावार दो दिन के अंदर उपलब्ध करायें। कोई स्वीकृत कार्य लंबित नहीं रहना चाहिये। समस्त उप जिलाधिकारियों को सभी निगरानी समितियों को सक्रिय रखने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि होम क्वॉरेंटाइन किए हुए किसी भी व्यक्ति में यदि लक्षण नजर आते हैं तो उसकी सूचना तुरंत मुख्य चिकित्सा अधिकारी/ प्रभारी चिकित्सा अधिकारी को दें। हॉटस्पॉट क्षेत्र में सभी आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति समय से होती रहे। मेडिकल इमरजेंसी में अगर कोई व्यक्ति है तो उसे रोका ना जाए कोई भी व्यक्ति भूखा ना रहे इस बात को भी सुनिश्चित किया जाए। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी डॉ0 राजेश कुमार प्रजापति, अपर जिलाधिकारी (वित्त एवं राजस्व) राकेश सिंह,नगर मजिस्ट्रेट चंदन पटेल,समस्त उपजिलाधिकारी, मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ प्रमोद कुमार सहित अन्य संबंधित उपस्थित रहे।


Comments