सोमवती अमावस्या की पूजा सम्पन्न


मिर्जापुर, (0प्र0) : सावन का तीसरा सोमवार के दिन सोमवती अमावस्या का विशेष संयोग बना हुआ है। सावन में लगने वाला सोमवती अमावस्या ऐसे में शिव भक्तों में विशेष उत्साह देखा जा रहा है। कोरोना संक्रमण के कारण मंदिरों में भीड़ भाड़ थोड़ी कम देखी जा रही है। लेकिन विंध्य क्षेत्र के विभिन्न शिव मंदिरों में श्रद्धालु भक्तगण विशेष पूजा अर्चना कर रहे हैं। वही सुहागिन महिलाएं भी विभिन्न कामनाओं के लिए व्रत रखकर पीपल वृक्ष की पूजा और परिक्रमा कर रही हैं। इस दिन पितरों को जल देने से अथवा पूजा करने से उन्हें तृप्ति मिलती है। आज के दिन दान का विशेष महत्व है। अपने सामर्थ्य के अनुसार दान करने से सुहागिन महिलाएं अच्छे पुण्य के भागी बनती हैं। सोमवती अमावस्या पर गंगा स्नान का विशेष महत्व बताया गया है। इन दिनों करोना के कारण गंगा स्नान संभव नहीं है, घर पर ही अपने स्नान जल में गंगा जल मिलाकर स्नान करने से गंगा स्नान का पुण्य लाभ होता है। पीपल वृक्ष के विशेष पूजा आराधना साधना करने से ब्रह्मा विष्णु महेश के साथ तमाम देवी देवताओं का वास होता है। धर्म शास्त्रों में ऐसा वर्णित है की पांडव पूरे जीवन तरसते रहे परंतु उनके संपूर्ण जीवन में सोमवती अमावस्या नहीं आई इसलिए सोमवती अमावस्या का विशेष महत्व है।


Comments