पेट्रोल व डीजल की बढ़ी कीमतों को लेकर कांग्रेस ने किया विरोध-प्रदर्शन


अंतर्राष्ट्रीय बाजार के हिसाब तेल की कीमत को कम करके महंगाई दर को सीमित करे सरकार


रिपोर्ट : अनीता गुलेरिया


दिल्ली : द्वारका सेक्टर-17 पेट्रोल पंप के पास केंद्र और दिल्ली सरकार की रणनीतियों के विरोधाभास में कहा पेट्रोल और डीजल की कीमतें 80 के पार जा चुकी हैं जबकि वैश्विक-महामारी के चलते आर्थिक-व्यवस्था के मंदी दौर के अंतर्गत अंतरराष्ट्रीय-बाजार में तेल की कीमत के हिसाब से देश में तेल की कीमत तीस से चालीस सीमा दर के हिसाब से जायज रेट पर बिकना चाहिए,लेकिन मोदी सरकार तेल और डीजल की कीमतों के दाम अत्यधिक व असीमित दर के हिसाब करते हुए दोहरे-मापदंड की नीति अपनाते हुए देश की जनता को कोरोना महामारी दौरान तेल और डीजल की दोहरी मार मारने में लगी है कांग्रेस-प्रत्याशियों द्वारा विरोध प्रदर्शन का मुख्य हिस्सा रहे धर्म सिंह गहलोत अध्यक्ष धर्मेंद्र माझी, राजपाल सोलंकी के इलावा अन्य कार्यकर्ता इस मुहीम का मुख्य हिस्सा रहे विरोध प्रदर्शन दौरान धर्मेंद्र सिंह गहलोत ने मीडिया-समक्ष भारी रोष व्यक्त करते हुए कहा एक तो भंयकर महामारी रोग के दौरान पहले से देश की अर्थव्यवस्था-डगमगा रही है,कई लोगों के काम धंधे छूटने से वह बेरोजगार हो गए हैं और लोग भुखमरी की कगार पर खड़े हैं ऐसे में सरकार दोहरे मापदंड की रणनीतियां अपनाने पर तुली है।



धर्मेंद्र मांझी ने मीडिया-समक्ष बोलते हुए कहा भयंकर महामारी दौरान आज की स्थिति के दौर मे हर इंसान अर्थव्यवस्था को लेकर परेशान व बुरी तरह से जूझ रहा है दिल्ली और केंद्र सरकार दोनो पर आरोप लगाते हुए कहा पहले तो दोनों सरकारें कोरोना-संक्रमण को काबू करने में नाकाम साबित हो रही हैं,दूसरी तरफ अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल और डीजल की कीमत के अनुसार देश में तेल की कीमत आधे-दाम पर होनी चाहिए ताकि लोग और ज्यादा महंगाई की मार से बच सके व देश की जनता दोहरे मापदंड का भोगी ना बन पाए । हमारी केंद्र और दिल्ली सरकार से गुजारिश है,सुगमता तहत कार्यशैली को अंजाम देते हुए जनता की भलाई के लिए बेहतर काम करते हुए,डीजल जो कि हर ट्रांसपोर्ट-गाड़ी में इस्तेमाल होता है डीजल की रेट-दर बढ़ने से एकाएक बढ़ती महंगाई-दर को मद्देनजर रखते हुए तेल-डीजल के दाम को जितना जल्दी हो सके कम करते हुए महंगाई दर को सीमित करने की कोशिश करें।


Comments