Mirzapur : जनपदवासी हुये हाईटेक एप से करा रहे हैं इलाज


- विभाग की पहल पर 427 मरीजों के कराया सफल इलाज


- एप से उपचार करने में शीर्ष पांच स्थानों में है मीरजापुर


रिपोर्ट : टी0सी0 विश्वकर्मा


मिर्जापुर, (0प्र0) : मुख्य चिकित्साधिकारी के निर्देशानुसार पिछले 10 जुलाई से जिले के मण्डलीय चिकित्सालय समेत 9 सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों,  46 प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों समेत 186 उपकेन्द्रों पर आने वाले  मरीजों का उपचार टेलीमेडिसीन के जरिये उपचार  किया जा रहा है।  अभी तक एप के माध्यम से जिले 427 लोगों का सफल उपचार किया जा चुका है।  एप के जरिये उपचार करने  में मीरजापुर स्वास्थ्य विभाग को   प्रदेश की सूची में पांचवा स्थान मिला।  जिले के मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. ओपी तिवारी  ने जिले के सभी स्वास्थ्य अधिकारियों व कर्मियों को ई-संजीवनी एप को प्रोत्साहित करने के लिए लगातार प्रयास करने के निर्देश दिये हैं। 


अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ अजय ने बताया कि विभाग की कोशिश है कि ओपीडी जैसी सुविधा ई-संजीवनी एप के जरिये लोगों को उनके घर पर ही मिल  सके। इस एप के प्रति बढ़ते लगातार रूझान पर उन्होने कहा कि जल्द जिले का हर दूसरा –तीसरा आदमी इस एप के जरिये उपचार कराता हुआ मिलेगा।


विभाग की पहल  


स्वास्थ्य विभाग जिले के सभी स्वास्थ्य केन्द्रों, उपकेन्द्रों पर आने वाले मरीजों  को ई-संजीवनी एप  से उपचार कराने के लिए लगातार प्रोत्साहित  कर रहा है । विभाग की कोशिश है लोगों को  ओपीडी जैसी सुविधा उनके घर पर ही मिल  सके। 


ई-संजीवनी एप से ऐसे होता है इलाज 


ई-संजीवनी एप के जरिये कोई भी व्यक्ति सोमवार से शनिवार के बीच प्रातः 9 बजे से सायं 4 बजे तक स्वास्थ्य संबंधी परामर्श ले सकता है। इसके लिए आपके पास सिर्फ एक स्मार्ट फोन होना चाहिए। आप अपने फोन पर जैसे ही ई-संजीवनी एप डाउनलोड करेंगे। एप आपसे कुछ जानकारी मांगेगा जिसको फीड करते ही आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नम्बर ओटीपी आएगा। यह ओटीपी आपको तत्काल फीड करना होगा। इस पूरी प्रक्रिया के मात्र 10 मिनट के अन्दर ही डॉक्टर का फोन आ जाएगा। यह फोन प्रदेश में बने किसी टेलीमेडिसीन हब से आ सकता है। फिर आप डॉक्टर को समस्या बता दीजिये। इसके पांच मिनट के अन्दर ही आपके मोबाइल पर दवा की पर्ची आ जायेगी। दवाएं भी ऐसी बताई जा रही हैं जो किसी भी मेडिकल स्टोर पर आसानी से मिल सकें।  


 


Comments