Mirzapur : होम आइसोलेशन में रहेगे कोरोना के मरीज


यह आदेश गाइडलाइन जारी होने की तिथि से लागू


रिपोर्ट : टी0सी0 विश्वकर्मा


मिर्जापुर, (0प्र0) : कोविड वायरस से अब जिले व प्रदेश में धीरे-धीरे संक्रमितों की संख्या बढ़ने के कारण शासन ने 20 जुलाई को होम आइसोलेशन सम्बन्धी गाइडलाइन को जारी कर दिया है।


अपर चिकित्साधिकारी/सर्विलांस अधिकारी डा0 अजय ने बताया कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए अपर मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद ने जिले के जिलाधिकारी व मुख्यचिकित्साधिकारी को पत्र के माध्यम से यह अवगत कराया है कि बिना लक्षण वाले कोरोना पांजिटिव मरीज को अब होम आइसोलेशन में रहने की अनुमति दी गई है। इन मरीजों को घर पर रहकर आइसोलेशन सम्बन्धी सारी सुविधाये मिलेगी।  होम आइसोलेशन में रहने वाले रोगियों को होम आइसोलेशन कोविड धनात्मक होने के दस दिनों पश्चात् तथा पिछले तीन दिनों तक बुखार न आने की स्थिति में समाप्त माना जायेगा। बिना लक्षण वाले कोविड के मरीज अब होम आइसोलेशन में भी रहेगे सरकारी क्षेत्रों में तमाम नागरिको को सुविधा न मिलने पर यह सरकार ने फैसला लिया है। इसके पश्चात् अगले सात दिनों तक रोगी घर पर ही रहकर अपने स्वास्थ्य का अनुश्रवण करेगे। होमण्आइसोलेशन की समाप्ति के बाद टेस्टिंग की आवश्यकता नहीं होगी।


उपचार प्रदान करने वाले चिकित्सक के द्वारा ऐसे व्यक्ति को लक्षण रहित रोगी के रूप में चिन्हित किया जाय। ऐसे रोगी के निवास पर स्वयं को आइसोलेट करने एवं परिजनों को क्वारेनटीन करने की सुविधा उपलब्ध हो। घर में कम से कम दो शौचालय अवश्य होना चाहिए। ऐसे रोगी जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता किसी कारण वश कमजोर है वे होम आइसोलेशन के लिए पात्र नही होगे। 24 घंटे रोगी की देखरेख करने के लिए एक देखभाल करने वाला व्यक्ति उपलब्ध हो। सम्पूर्ण आइसोलेशन अवधि के दौरान देखभाल करने वाले व्यक्ति एवं सम्बन्धित चिकित्सालय के मध्य सम्पर्क बनाए रखना होमण्आइसोलेशन के लिए एक प्रमुख अनिवार्यता है। देखभाल करने वाले व्यक्ति एवं रोगी के नजदीकी सम्पर्को को प्रोटोकाॅल एवं उपचार प्रदान करने वाले चिकित्सक के परामर्श के अनुसार हाइड्राक्सीक्लोरोक्वीन प्रोफाइलेक्सिस लेनी होगी। आरोग्य सेतु ऐप सभी को मोबाइल पर डाउनलोड करना होगा।


सर्विलांस अधिकारी ने बताया की कोरोना के लक्षण पाये जाते है व कोरोना पाजिटव रिपोर्ट भी आती है तो उनको सरकारी आइसोलेशन सेन्टर में रखा जायेगा। जिनकी देखभाल डाक्टरों व पैरामेडिकल स्टाफ द्वारा रखा जायेगा। जिन घरों में एक से अधिक कोरोना पांजिटिव मरीज होते है तो उनको भी होम आइसोलेशन की अनुमति नही दी जायेगी। होम आइसोलेशन के लिए दो दर्जन डाक्टर व स्टाफ की भी शीघ्र व्यवस्था कर दी जायेगी।


Comments