Mirzapur : एक ही परिवार के तीन मासूम बच्चो की खनन से हुए गड्ढे में पानी भरें रहने से मौत, ऊर्जा राज्य मंत्री ने शोक प्रकट किया


मौके पर पहुंचे जिलाधिकारी दिए जांच के आदेश व लीज को किया निलंबित


रिपोर्ट : बृजेश गोंड


मिर्जापुर, (उ0प्र0) : अहरौरा थाना क्षेत्र में आज शनिवार एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है जिसमें एक ही परिवार के तीन सगे भाई बहनों मासूम बच्चो की खनन से हुए गड्ढे में पानी भरें रहने के उपरांत डूबने से दर्दनाक मौत हो गई।


प्राप्त जानकारी के अनुसार आज शनिवार को सुबह लगभग साढ़े छः बजे स्थानीय थाना की पुलिस को सूचना प्राप्त हुई कि स्थानीय थाना क्षेत्र के ग्राम चकजाता सरिया निवासी प्रकाश कोल की बारह वर्षीय पुत्री राधा दस वर्षीय, खुशबू  एवं आठ वर्षीय पुत्र काजू  की ग्राम चिरैया मौजा लालपुर क्षेत्रान्तर्गत पत्थर की खदान से बने गड्ढे में भरे पानी में नहाते समय डूबने से मृत्यु हो गयी। उक्त सुचना पर क्षेत्राधिकारी ऑपरेशन एवं थानाध्यक्ष अहरौरा तत्काल मय फोर्स मौके पर पहुंचकर, फ्लड पीएसी, गोताखोर व स्थानीय लोगो की मदद से तीनों शव बरामद कर लिया।



पुलिस के अनुसार परिजनों द्वारा बताया गया कि कल शुक्रवार को दोपहर लगभग बारह बजे उक्त तीनों बच्चे बकरियां व गाय को चराने लेकर गए थे, परन्तु देर शाम घर वापस न आने पर काफी खोजबीन की गयी परन्तु कुछ पता नही चला। जिस पर आज ग्रामीणों के पहल पर परिजनों द्वारा दी गई उक्त सूचना पर थाना अहरौरा पुलिस द्वारा मौके पर पहुंच कर तीनो शवों को कब्जे में लेकर अग्रेतर विधिक कार्यवाही की गई। वहीं इस हृदय विदारक घटना की जानकारी होने पर जिलाधिकारी सुशील कुमार पटेल अपने अन्य सहयोगियों के साथ घटनास्थल पर पहुंचे और वहां पर लापरवाही की बात कही है तथा इस घटना की जांच व खनन लीज को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया।


ऊर्जा राज्य मंत्री ने तीन बच्चों के पानी में डूबने से मृत्यु पर शोक प्रकट किया


थाना अहरौरा के ग्राम चकजाता सरिया के निवासी श्री प्रकाश कोल की पुत्री राधा उम्र लगभग 12 वर्ष खुशबू 10 वर्ष एवं पुत्र काजू 8 वर्ष की ग्राम चिरैया लालपुर क्षेत्र के पत्थर की खदान में बने गड्ढे में भरे पानी में नहाते समय डूबकर मृत्यु हो गई। उक्त घटना की सूचना पाकर रमाशंकर सिंह पटेल ऊर्जा एवं अतिरिक्त स्रोत ऊर्जा राज्य मंत्री ने गहरा शोक प्रकट किया। चूंकि मंत्री लखनऊ में ही है। इसलिए फोन के माध्यम से जिला प्रशासन के अधिकारियों को मौके पर भेजकर मदद कराई तथा मंत्री जी ने कहा कि मुख्यमंत्री जी को पत्र के माध्यम से दैवी आपदा राहत कोष के अंतर्गत जो भी संभव होगा, सहायता जरूर प्रदान की जाएगी और कहा कि लखनऊ से आते ही उक्त शोकाकुल परिवार के घर जाएंगे।


Comments