दिल्ली एनसीआर के इलावा चार राज्यों में शुक्रवार सात बजे तेज भूकंप के झटके, 4.7 तीव्र गति से आए भूकंप का मुख्य केंद्र इस बार अलवर रहा


रिपोर्ट : अनीता गुलेरिया


दिल्ली : राजधानी व एनसीआर में शुक्रवार शाम सात बजे भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए,भूकंप विज्ञान केंद्र की तरफ से इन झटको की तीव्रता गति 4.7 मापी गई है,इस बार भूकंप का मुख्य केंद्र राजस्थान का जिला अलवर रहा,भूकंप की गहराई 35 किलोमीटर थी, भूकंप की वजह से किसी तरह का जान-माल का नुकसान नहीं हुआ है,दिल्ली एनसीआर के इलावा राजस्थान यूपी,हरियाणा मे भूकंप का असर देखने को मिला,जिला रेवाड़ी में एक मिनट तक भूकंप के झटकों को महसूस किया गया और घरों का सम्मान हिलते देख घरों से बाहर निकल गए । बता दें, शुक्रवार को ही दोपहर ढाई बजे  मिजोरम में भी तेज भूकंप के झटकों को महसूस किया जिसकी तीव्रता 2.35 से लेकर 4.6 थी एक हफ्ते से लगातार लद्दाख जम्मू-कश्मीर यहां भूकंप के झटकों को एक ही दिन दो बार महसूस किया गया,लगातार इस तरह के भूकंप को विज्ञान विशेषज्ञों ने एक बड़े खतरे का अहसास बताया है,आप को बता दे,दिल्ली एनसीआर में चौदह भूकंप-झटकों के लगातार आने की वजह से दिल्ली एनसीआर को सबसे खतरनाक श्रेणी के पांच जोन में रखा गया है,यह भूकंप आते कैसे हैं दरअसल पृथ्वी की बाहरी सतह की पंचास से सौ किलोमीटर दायरे की अलग अलग तह बनी होती है,जिनका लगातार तरल-पदार्थ लावा के ऊपर घूमते रहने से आपसी टकराव होने पर निकली ऊर्जा से भूकंप के झटको का एहसास होता है,भारतीय महाद्वीप को भूकंप के लिहाज से दो,तीन,चार और पांच जोन में बांटा गया है जिसमें पांचवा जोन सबसे खतरनाक श्रेणी में आता है । 



भूकंप दौरान हमे सतर्कता से जुड़ी मुख्य-एहतियात बरतनी चाहिए


यदि भूकंप आता है तो उस समय हमें किन बातों का खास करके ख्याल रखना चाहिए,सबसे पहले भूकंप के झटके महसूस होते ही आप अपने घरों से बाहर खुले मैदान में आ जाएं और किसी बिल्डिंग के पास खड़े मत होइए, बिजली के खंभों और तारों से दूर हट जाए,यदि बिल्डिंग ज्यादा ऊंची है और नीचे आने में समय लगता है तो उस समय आप किसी फर्नीचर-सामान मेज,कुर्सी बेड के नीचे छिप जाएं यदि संभव ना हो तो इमारत के एक कोने में अपने चेहरे व सिर को हाथों से ढक कर बैठ जाएं मलबे में दबे होने पर मुंह से बोलने की बजाए धीरे-धीरे दीवार या किसी समान को धीरे से थपथपाए,ताकि बाचाबकर्मी आपकी स्थिती को समझकर आपको बचा पाए बोलने पर आपके मुंह में मलवा व दम-घोटू मिट्टी के मुह मे जाने से मौत की संभावना बढ़ जाती है भूकंप के समय बिजली के सारे स्विच को ऑफ कर दें,जिस बिल्डिंग में लिफ्ट लगी हो तो भूकंप के समय लिफ्ट का कतई इस्तेमाल ना करें और हो सके तो सीढ़ियों से नीचे उतरने की कोशिश करें भूकंप के दौरान ज्यादा हाय-हल्ला शोर मचाकर भगदड़ मचाने की कोशिश मत कीजिए,भगदड़ के कारण जानमाल का ज्यादा नुकसान होने का खतरा बना रहता है इसलिए ऐसा हरगिज ना करें । भूकंप के तुरंत बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट करके दिल्ली के लोगों को सुरक्षित रहते हुए अपना ध्यान रखने को कहा,क्योंकि इस बार भूकंप के झटके की तर्वीता गति पहले से कहीं अधिक थी ।


Comments