प्रवासी 153 गर्भवती महिला, 298 बच्चों को सर्वे के दौरान पाये गये - डीपीओ


विभाग द्वारा टीकाकरण कराकर व पोषाहार का भी किया जा रहा वितरण


रिपोर्ट : टी0सी0 विश्वकर्मा


मिर्जापुर, (उ0प्र0) : कोविड-19 के चलते जिले में लगाातार आ रहे प्रवासियों पर विभाग अपनी पैनी नजर रखे हुये है। परिस्थिति को ध्यान में रखते हुए बाल विकास परियोजना विभाग द्वारा जनपद में आ रहे मजूदरों के बच्चों और गर्भवती महिलाओं का सर्वे करने का काम कर रहा है। सर्वे के समाप्त होने पर ऐसे महिलाओं और बच्चों को विभाग द्वारा टीकाकरण और स्वास्थ्य सम्बन्धी सेवाओं के साथ ही साथ पोषाहार उपलब्ध कराने का कार्य करेगी।


बाल विकास विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी प्रमोद कुमार सिंह ने बताया कि पिछले दो माह से लांकडाउन के दौरान जिले में कोई भी व्यक्ति नही आ पा रहे थे। जैसे लाकडाउन में छूट मिली कि अन्य प्रदेशों से भी प्रवासियों की भारी संख्या जिले में आने लगी। जिसकों गम्भीरता से लेते हुए विभाग इन मजदूरों के महिलाओं व बच्चों का सर्वे करने करने लगा। सर्वे में मुख्य रूप से गर्भवती महिलाओं व बच्चों, किशोरियों पर ही विभाग का विशेष ध्यान दिया गया। सर्वे के दौरान उनके घरों के नजदीकी आंगनबाड़ी केन्द्रों पर पोषाहार का भी देने का व्यवस्था किया गया है।


सीटी ग्रामीण के बाल विकास परियोजना अधिकारी विमलेश ने बताया कि ऐसे महिलाओं व बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण भी विभाग द्वारा कराया जा रहा है। विभाग की ओर से अभी तक 293 गर्भवती महिलाओं व 298 बच्चों की सूची तैयार कर लिया है। विभाग द्वारा जनपद में 2668 आंगनबाड़ी केन्द्रों का संचालन किया जा रहा है। इस समय प्रवासियों के अलावा जिले में 30224 गर्भवती महिलायें और 30702 किशोरियां व छ माह के 4119 बच्चें है। सर्वे के दौरान कोविड-19 की सावधानियों का पूरा ध्यान रखा जा रहा है। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सर्वे के दौरान मास्क व ग्लस्ब पहने हुए रहती है। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा प्रवासी महिलाओं व बच्चों को बार-बार साबुन व पानी से हाथ धोने के परामर्श दिया जा रहा है। इसके अलावा सर्दी, खांसी व जुकाम होने पर तुरन्त डाक्टर का परामर्श लेना चाहिए। एक दूसरे से लगभग दो मीटर की दूरी अवश्य बनायें रखे। घर से बाहर जरूरत होने पर ही निकलें अगर निकलें तो मास्क अवश्य पहने का कार्य करें।


Comments