पत्रकारों पर फर्जी मुकदमे दर्ज कराने के विरोध में जिला अधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को सौंपा ज्ञापन


रिपोर्ट : तनवीर खान


उन्नाव, (उ0प्र0) : लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ को कमजोर करने के लिए पत्रकारों पर लगातार फर्जी मुकदमे दर्ज किए जा रहे हैं। यहां तक भ्रष्टाचार के विरोध में कलम उठाने वाले पत्रकारों को जेल की सलाखों के पीछे तक भेजने में कोई कसर नही छोड़ी जा रही है। जिसको लेकर जनपद के कई वरिष्ठ पत्रकारों ने जिला अधिकारी कार्यालय पहुंचकर प्रदेश के मुख्यमंत्री के नाम सिटी मजिस्ट्रेट को ज्ञापन सौंपा।

प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार बनते ही पत्रकारों की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर तमाम दावे किए गए थे। लेकिन उत्तर प्रदेश का उन्नाव जिला जिसे कलम व साहित्य की नगरी कहा जाता हैं। ऐसे जनपद में कलमकारों की आवाज दबाने की कोई कसर बाकी नही रखी जा रही है। आए दिन पत्रकारों पर फर्जी मुकदमे लगाकर उन्हें जेल भेज दिया जा रहा है। जिससे जनपद में भ्रष्टाचार अपनी चरम सीमा पर है। जब भी कोई गैर कानूनी काम को लेकर खबर प्रकाशित या प्रसारित की जाती है तो जरायम के कारोबारियों को यह नागवार गुजरता है। जिसको लेकर जनपद के प्रतिनिधियों सहित तमाम अधिकारियों की नजर में पत्रकार उनके गलत कामों का रोड़ा बनता देख उसे या तो जान से हाथ धोना पड़ जाता है या फिर जेल की सलाखों के पीछे डाल दिया जाता है।


पत्रकारों के उत्पीड़न को लेकर आज जनपद के तमाम पत्रकारों ने जिला अधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपकर पत्रकारों की सुरक्षा व फर्जी मुकदमों की न्याय संगत निष्पक्ष जाँच की माँग की। इस मौके पर जनपद के लगभग दो दर्जन पत्रकार मौजूद रहे।


Comments