Mirzapur : सौ दिनों पश्चात खुला विन्ध्यवासिनी दरबार, प्रथम दर्शनार्थी बने डीएम व एसपी


रिपोर्ट : रवि शंकर शास्त्री


विन्ध्याचल/मिर्जापुर, (उ0प्र0) : कोविड-19 के चलते 20 मार्च से बन्द पड़ा माँ विन्ध्यवासिनी दरबार सौ दिनों पश्चात खोला गया। जहाँ पारिवाल की अग्रणी भूमिका में नगरविधायक रत्नाकर मिश्र रहे, तो जिलाधिकारी सुशीलकुमार पटेल व पुलिस अधीक्षक डॉ धरमवीर सिंह को गर्भगृह से माँ का दर्शन करने वाले सर्वांगीण दर्शनार्थी होने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। हाँलाकि पूर्ण रूप से श्रद्धालुओं का प्रवेश सोमवार से होना सुनिश्चित हुआ है।



सुबह सवा ग्यारह बजे के करीब जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक मन्दिर पहुँचे तो उनके आगवानी के लिए पण्डा समाज पहले से ही तैयार था। उक्त लोगो को साथ लेकर प्रथम प्रवेश द्वार पहुंचकर पण्डा समाज के अध्यक्ष, मंत्री ने गर्भगृह का ताला खोलकर सभी को प्रवेश कराया। अधिकारियों ने चरण स्पर्श न करके कटघरे के बाहर से ही माँ का चरण दर्शन किया। इसके बाद मन्दिर प्रांगण में चल रहे एक दिवसीय अखण्ड कीर्तन में समस्त लोगों ने कुछ पल बैठकर 'जय माँ दुर्गा जय माँ तारा, दयामयी कल्याण करो' का उच्चारण किया। पण्डासमाज के अध्यक्ष पंकज द्विवेदी ने समस्त अधिकारियों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानीय भी किया। डीएम, एसपी के अलावा एडीएम यूपी सिंह, नोडल अधिकारी सुरेंद्र प्रसाद सिंह, नगर मजिस्ट्रेट जगदम्बा सिंह पटेल, सीएमओ ओपी तिवारी, थानाप्रभारी वेद प्रकाश राय इत्यादि लोग मौजूद रहे।


Comments