Mirzapur : परिवार नियोजन की सेवा समेत कई स्वास्थ्य योजनाएं हुयी पुनः बहाल


रिपोर्ट : टी0सी0विश्वकर्मा


मिर्जापुर, (उ0प्र0) : कोविड-19 वायरस जैसे गम्भीर परिस्थिति होने के कारण स्वास्थ्य सम्बन्धी सारी योजनाओं को बन्द कर दिया गया था। जिसको अब प्रमुख सचिव ने चालू करने का निर्देश दे दिया है। इसकी जानकारी पत्र के माध्यम से भी मुख्य चिकित्साधिकारी को अवगत कराया जा चुका है।


मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 ओ0पी0तिवारी ने बताया कि कोविड 19 अभियान में लगे आशा व एएनएम अपने-अपने क्षेत्र में भ्रमण के दौरान अब कंडोम और गर्भनिरोधक गोलियां भी बांटने का कार्य करेगी। जिससे दूर दराज के लोगो को परिवार नियोजन सम्बन्धी साधन सरलता से उपलब्ध हो जायेगे। परिवार नियोजन समेत गर्भवती महिलाओं की प्रसव के पूर्व की सेवाएं पुनः चालू करने का आदेश प्रदेश को प्रमुख सचिव द्वारा दिया गया है।जिला कार्यक्रम प्रबन्धक अजय सिंह ने बताया कि प्रमुख सचिव का आदेश मिलते ही सम्बन्धी कर्मचारियों व अधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि वे जनपद के 9 सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रो 43 प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों समेत 186 सबसेन्टरों पर भी परिवार नियोजन सहित गर्भवती महिलाओं सम्बन्धी सेवाओं को तत्काल शुरू करने का कार्य करें। बताया कि संक्रमण की वजह से सारी सेवाओं को विभाग स्तर से बन्द कर दिया गया था जिसमें से परिवार नियोजन समेत गर्भवती महिलाओं की तमाम योजनाये भी थी।


इस सम्बन्ध में प्रमुख सचिव अमित मोहन प्रसाद ने प्रदेश के समस्त मुख्य चिकित्साधिकारियों को आदेश दिया है कि महिला व पुरूष नसबन्दी को छोड़कर अन्य तमाम परिवार नियोजन सम्बन्धी संसाधन को अब जिले में संचालित किया जाए।


अपर मुख्य चिकित्साधिकारी/सर्विलांस अधिकारी डा0 अजय के अनुसार आदेश में यह भी कहा गया कि कोविड 19 अभियान में लगे स्वास्थ्यकर्मी आशा व एएनएम अपने क्षेत्र में भ्रमण को दौरान अब कंडोम और गर्भनिरोधक गोलियों को भी बांटने का कार्य करेंगे। जिन क्षेत्रों में कोविड-19 का प्रभाव नही है। उन क्षेत्रों में परिवार नियोजन सम्बन्धी अपनाने के लिए प्रचार-प्रसार भी किया जायेगा। जिन क्षेत्रों में कोविड का प्रभाव है तो उन क्षेत्रों में कार्यरत आशा व एएनएम के अलावा स्वास्थ्य कर्मियों का भी इस परिवार सम्बन्धी कार्यक्रम में तैनाती नही किया जायेगा। इसके अलावा नान कोविड प्रसव केन्द्रों पर परिवार नियोजन के लिए अपनाई जाने वाली अस्थायी विधियां अंतरा, छाया, कंडोम और गर्भनिरोधक पर पहले के ही तरह कार्यक्रम चलाये जाने का आदेश दिया गया है।


डीपीएम ने बताया कि प्रधानमंत्री मातृत्व सुरक्षित अभियान के तहत हर महीने की 9 तारीख को गर्भवती महिलाओं की प्रसव पूर्व जांच किया जाता है। जनपद के समस्त सामुदायिक /प्राथमिक स्वास्थ्य व महिला चिकित्सालय में  प्रधानमंत्री मातृत्व अभियान के तहत 85 महिलाओं की जांच की गई। इन महिलाओं को फल भी दिया गया। बताया कि कुल पीएमएसएमए दिवस पर  गर्भवती महिलाओं की जांच की गईए साथ ही कोरोना से बचाव के लिए उपयोगी जानकारी दी गई। गर्भवती महिलाओं की निःशुल्क उच्च रक्तचापए वजनए शारीरिक जांचए मधुमेह एवं यूरिन के साथ जटिलता के आधार पर अन्य निशुल्क जांच की गईए साथ ही जांच में एनीमिक महिला की पहचान किये जाने पर आयरन फोलिक एसिड की दवा देकर इसका नियमित सेवन करने की सलाह दी गयी  बेहतर पोषण गर्भवती महिलाओं में खून की कमी को होने से बचाता है सभी गर्भवती महिलाएं हरी साग.सब्जीए दूधए सोयाबीनए फलए भूना हुआ चना एवं गुड का सेवन करेंए उन्होंने गर्भावस्था के आखिरी दिनों वाली महिलाओं को दिन में कम से कम चार बार खाना खाने की भी सलाह दिया।


जिला मातृ स्वास्थ्य सलाहकार दिनकर लाल’ ने  बताया कि इस अभियान की सहायता से प्रसव के पहले ही संभावित जटिलता का पता चल जाता है जिससे प्रसव के दौरान होने वाली जटिलता में काफी कमी भी आती है और इससे होने वाली मातृ एवं शिशु मृत्यु दर में भी कमी आती है।


 


Comments