Mirzapur : मुख्यालय के हृदय पर कोरोना-वायरस का डिस्को-डांस


कोरोना की गली में नो-एंट्री


रिपोर्ट : सलिल पांडेय


मिर्जापुर, (उ0प्र0) : शहर उद्वेलित है। मुख्यालय के हृदय स्थल पर कोरोना के डिस्को-डान्स करने से जगह-जगह बैरिकेटिंग कर कोरोना की गली में नो एंट्री की चेतावनी के साथ पुलिस का पहरा बैठा दिया गया है। दूसरी ओर परसिया आश्रम पद्धति, जिसे शुरू से क्वारन्टीन सेंटर बनाया गया है, से आ रही चीख के शब्दों का निहितार्थ यह है कि यहां निगेटिव मरीज अपने आप पॉजिटिव हो जाएगा। विन्ध्याचल के पण्डा परिवार को क्वारन्टीन करने से पहली बार उठी आवाज में कमी नहीं बल्कि बढोत्तरी ही होती जा रही है। शहर के लोग सुबह से ही यह जानने के लिए किधर से आएं और किधर से जाएं बेताब थे । इस बीच गुरुवार को आए 4 पॉजिटिव के बाद फिर 3 पॉजिटिव की फैली खबर की आधिकारिक पुष्टि इन पंक्तियों को लिखे जाने तक नहीं हो सकी थी।


मिशन कम्पाउंड में पहरा तो विजयपुर कोठी में बांस-बल्ली - महिला अस्पताल की डॉक्टर के पॉजिटिव होते ही SP आफिस के सामने से विजयपुर कोठी में प्रवेश के मुहाने पर बॉस-बल्ली लगा दी गई है जबकि डॉक्टर की गली की ओर भी आने-जाने पर रोक लगा दी गई है। जनपद न्यायालय सटे होने के नाते सारे द्वार बंद कर दिए गए हैं । दूसरी ओर जिला पंचायत के सामने मिशन कम्पाउंड में भाई-बहन के पाजिटिव आने के बाद घर में ताले लटक गए। भाई-बहन शेम्फोर्ड आइसोलेशन सेंटर में भेज दिए गए, जबकि माता-पिता को परसिया में दाखिल किया गया है। यहां ICICI बैंक के पास पुलिस बैठा दी गई है। जबकि पादरी के घर के पास यातायात विभाग के ट्रैफिक कंट्रोल किए जाने वाले से बैरिकेटिंग कर दिया गया है। महिला अस्पताल और कलेक्ट्रेट में आवाजाही नियंत्रित की गई है।


मुख्य मार्ग नहीं बंद होंगे - मुख्यालय के प्रमुख स्थान पर कोरोना केस आने से 250 मीटर तक आवाजाही की प्लानिंग नहीं लागू किए जाने की जानकारी मिली है। क्योंकि इस स्थिति में जिले का चक्का ही जाम हो जाएगा। शुक्रवार सुबह से ही लोग यह जानने के लिए उतावले थे कि संकटमोचन, जुबली स्कूल एवं हेड पोस्ट आफिस की तरह से आवाजाही पर रोक तो नहीं लगाई गई है ?


क्वारन्टीन सेंटर - परसिया में इस वक्त 85 मरीज है। सफाई की और उत्तम व्यवस्था की जरूरत महसूस की जा रही है।


Comments