Mirzapur : कोरोना वायरस रविवार को वाराणसी में अवकाश पर रहा : ट्रूनाट मशीन ने 11 को  OK कहा



  • विन्ध्याचल में 100 दिन से चल रहे यज्ञ की पूर्णाहुति 29 को

  • दूर के श्रद्धालुओं को मौका दें आसपास के लोग

  • खुद की इच्छाओं का परित्याग भी यज्ञ है


रिपोर्ट : सलिल पांडेय


मिर्जापुर, (उ0प्र0) :  कोरोना के कारण 20 मार्च से लागू निषेधाज्ञा के चलते दैवी-शक्तियों की कृपा पाने के पण्डा-समाज द्वारा 21 मार्च से किये जा रहे यज्ञ-हवन की पूर्णाहुति 29 जून को होगी और इसी दिन माँ विंध्यवासिनी का दर्शन सर्वसुलभ हो जाएगा लेकिन अनुमान है कि पहले दिन बहुत भीड़ नहीं होगी जबकि प्रशासन  वासन्तिक और शारदीय नवरात्र की तरह विन्ध्याचल मंदिर की ओर जाने वाली सड़कों और गलियों पर पहरा बैठाए हुए है, जगह जगह बैरिकेडिंग की गई है ताकि लॉकडाउन के नियम-कानून कहीं से डाउन-फाल स्थिति में न होने पाए।


नवार्ण मंत्र से हवन का आखिरी दिन - वासन्तिक नवरात्र के 4 दिन पूर्व 21 मार्च से शुरु विशेष हवन की पूर्णाहुति आषाढ़ माह के गुप्त नवरात्र के नौवें दिन होगी । इन 100 दिनों में  पण्डा समाज ने 24 घण्टे प्रतिदिन कुंड की अग्नि प्रज्वलित करने के लिए लगभग 100 कुंतल  हवन के लिए निर्धारित लकड़ियों से यज्ञ-अनुष्ठान पूरा किया। प्रतिदिन हवन में 8 सदस्य बैठते थे और प्रत्येक सदस्य 250 ग्राम साकल्य (हवन में डाली जाने वाली सामाग्री, दशांग, तिल, जौ, चावल, मखाना) का प्रयोग करते थे। इस प्रकार 4 किलो प्रतिदिन के हिसाब से इतने दिनों में 4 कुंतल हवन-सामाग्री डालते हुए ऊँ ऐं ह्रीं क्लीं चामुंडायै विच्चे - स्वाहा मंत्रों से देव शक्तियों को प्रसन्न करने का आध्यामिक प्रयास हुआ। प्रतिदिन शुद्ध देशी घी 250 ग्रा का भी प्रयोग किया गया जो सौ दिन में 25 किलो हुआ। 



होटल-धर्मशाला के खुलने का आदेश नहीं - भारी मांग पर मंदिर तो खुल रहा है परंतु होटल-धर्मशालाओं को खोलने की अनुमति फिलहाल रविवार तक नहीं हुई लिहाजा आकलन यही है कि होटलों में रुकने वाले यात्री अभी नहीं आएंगे।


आसपास के लोग दूर के लोगों को मौका दें - इस बीच प्रबद्ध लोगों की राय थी कि सौ दिन बाद मंदिर खुलने पर विविध तिथियों पर नियमित दर्शन करने वाले लोग अभी मानसिक आस्था ही प्रकट करें तथा दूर से आने वालों को मौका देकर पूर्ण आध्यात्मिक होने का परिचय दें । क्योंकि दूसरों के लिए खुद की इच्छाओं पर नियंत्रण भी अध्यात्म की कड़ी है।


बंटे सम्मान-पत्र - पण्डा समाज ने नोडल आफिसर, विशेष सचिव, DM, SP, CMO, ADM, CM से लेकर अन्य अधिकारियों को प्रशस्तिपत्र दिया। सामान्यतया बड़े आफिसर्स प्रायः सम्मानपत्र बांटते हैं लेकिन अखिल ब्रह्मांडेश्वरी के धाम के प्रमाणपत्र को अधिकारोयों ने आदर से लिया। 9 पत्रकारों को भी सम्मानपत्र दिया गया जिसमें डॉ राजेश मिश्र, जयेंद्र चतुर्वेदी, रतनमोहन मिश्र, लकी, रामलाल साहनी, रिंकू, वतन शुक्ल, मनीष रावत, दीपचंद एवं प्यारेमोहन त्रिपाठी शामिल थे। जो नहीं उपस्थित थे, उनका प्रमाणपत्र नहीं बंट सका जिसमें आनन्दमोहन मिश्र, रविशंकर शास्त्री एवं हेमंत शुक्ल आदि हैं ।


अवकाश पर रहा कोरोना वायरस


रविवार, 28 जून को वाराणसी से कोई रिपोर्ट नहीं आई इसलिए किसी पॉजीटिव का केस नहीं आया। मंडलीय अस्पताल में लगा ट्रूनाट मशीन में 11 की जांच की गई तो सभी निगेटिव आए। इस तरह रविवार विभागीय लोगों के लिए सुकून की नींद सोने का अवसर दे गया।


Comments