Mirzapur : बाल विकास विभाग अब घर-घर जाकर कार्यक्रमों को मनायेगा


कोविड-19 को लेकर बाल विकास विभाग का फैसला 


रिपोर्ट : टी0सी0विश्वकर्मा


मिर्जापुर, (उ0प्र0) : कोविड-19 को लेकर बाल विकास विभाग अपने कार्यक्रमों को सुचारू रूप से करने के लिए अब विभाग के बाल विकास परियोजना अधिकारी व आंगनबाड़ी कार्यकर्ता अब अपने अपने क्षेत्र में घर -घर जाकर विभाग द्वारा चलाये जा रहे दिवसों को पूरा करने का कार्य करेगी।


बाल विकास विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी प्रमोद कुमार सिंह ने बताया कि अब विभाग ने कोविड 19 को लेकर विभाग ने अब केन्द्रो पर लाभार्थियों को न बुलाकर डोर-टू-डोर कार्यक्रमों को मनाने का कार्य करेगी। इस जिले कुल 2668 आंगनबाड़ी केन्द्र व 263 उपकेन्द्र संचालित किये जा रहे है। जनपद के सभी बाल विकास परियोजना अधिकारियों समेत आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को पत्र के माध्यम से भी अवगत कराया जा चुका है।


यूनीसेफ की माण्डवी द्विवेदी के सहयोग से विभाग ने 20 जून को   बच्चों की सुरक्षा के मददेनजर आंगनबाड़ी केंद्रों की बजाए अब घर पर अन्नप्रासन कराया गया। समन्वित बाल विकास कार्यक्रम योजना के तहत आंगनबाड़ी केंद्रों की बजाए घर घर जाकर छह माह से छह वर्ष तक के बच्चोंए धात्री व गर्भवती महिलाओं को अन्नपुरक पुष्टाहार की सेवाएं उपलब्ध कराया जा रहा है। लगभग 5200 सौ घरों में बच्चों का अन्नप्रासन कराया गया। वर्तमान समय में जनपद में 2668 आंगनबाड़ी केंद्र और 263 उप केंद्र संचालित हो रहे हैं। वर्तमान समय में 0.6 वर्ष तक के तीन लाख 12 हजार बच्चेए 65 हजार गर्भवती व धात्री महिलाएं और लगभग 25 हजार किशोरी हैं।


यूनीसेफ की माण्डवी द्विवेदी ने बताया कि इसके लिए विभाग द्वारा आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं व लाभार्थियों को प्रतिदिन विभाग द्वारा पोषण सन्देश दृमोबाइल के माध्यम से देने का कार्य किया जा रहे है। जिससे उनके एक जगह पर इकट्ठा होने की स्थिति नही होने पायेगी।


Comments