महाराष्ट्र में आने वाले निसर्ग चक्रवर्ती तुफान पर मुंबई में स्थिती काबू में


जुहू पुलिस आयुक्त पंढरीनाथ वाव्हल ने बीएमसी की मदद से जुहू में स्थित मोरा गांव के परिसर को खाली कराया


रिपोर्ट : रितेश वाघेला


मुंबई : भारतीय मौसम विभाग से 31 मई को प्राप्त अधिसूचना के अनुसार, प्राकृतिक चक्रवात 2 से 4 जून तक कोंकण तट से टकराएगा, इसलिए एहतियात के तौर पर संबंधित विभागों के प्रमुखों और विभागीय अधिकारियों की बैठक बुलायी ताकि तैयारियों की समीक्षा की जा सके और बहुमूल्य निर्देश दिए। इस संबंध में, मुंबई पुलिस विभाग के सहयोग से बीएमसी के आपदा प्रबंधन विभाग ने विभिन्न विभागों, विशेष रूप से तटीय क्षेत्रों में मछुआरों को समुद्र में जाने और नागरिकों को अपने घरों को नहीं छोड़ने का निर्देश दिया था।



पर 2 जून को मौसम विभाग द्वारा जारी पूर्वानुमान के अनुसार, चक्रवात 3 जून को दोपहर 12 बजे रायगढ़ के तट से टकराएगा। 6 इस समय अपील की गई कि बिना जरूरी काम के घर से बाहर न निकलें। इसी तरह, आपातकालीन प्रबंधन और अग्निशमन विभाग के साथ-साथ सभी विभाग कार्यालय चक्रवात की स्थिति से निपटने के लिए सतर्क थे।



इसी क्रम में मुंबई में स्थित जुहू पुलिस आयुक्त पंढरीनाथ वाव्हल ने बताया कि बीएमसी कि मदद से जुहू में स्थित मोरा गांव के परिसर को खाली कराया गया है। रहिवासी को रुतुंबरा कोलेज में 300 लोगों को रखा गया है। जिससे 40 बच्चे  महिलाएं बुजुर्ग लोगों को प्राधान्य दिया है। परिसर के युवा वर्ग लाईफ गार्ड के लिए प्रशासन के साथ मदद में शामिल है।



जूनियर इंजीनियर रूपेश पाटिल, सब इंजीनियर दिनेश माने, श्रीकांत कुमरे, एई रखरखाव सोनवने कार्यकारी अभियंता प्रमोद वेटम, वार्ड ओफिसर वी.एम.मोटे, डी.एम.सी रंजित ढांकने व म्युनिसिपल कमिश्नर इकबाल सिंह चहल निरिक्षण के साथ ही मोरा गांव रहिवासी के साथ बातचीत की ओर कोरोना के कारण कई जानकारियां अधिकारी को दिए।


Comments