मां विंध्यवासिनी धाम में अद्भुत दृश्य



  • यज्ञकी प्रज्वलित अग्नि नारायण के आगमन का संदेश दे रही थी तो आकाश से हो रहा था जलाभिषेक

  • ग्रामे,नगरे,जनपदे, देशे, विश्वे कोरोना शमनार्थंम् संकल्प के बीच दी गई आहुति

  • प्रशासन के साथ 8 को होगी बैठक


रिपोर्ट : सलिल पांडेय


मिर्जापुर, (उ0प्र0) : मां विंध्यवासिनी के धाम में द्वादश ज्योतिर्लिग-पीठों जैसी ज्योति यज्ञ कुंड में प्रज्वलित जब हो रही थी तो यज्ञ-देवता भगवान विष्णु का पाद-प्रक्षालन करने ले लिए आकाश से रिमझिम फुहारें पड़ रही थीं। लगा कि आकाश जलाभिषेक कर रहा है। इन सारे संयोगों से प्रकट होता हुआ लगा कि पुरोहित द्वारा 'गृहे, ग्रामे, नगरे, जनपदे, देशे, विश्वे कोरोना शमनार्थंम्' जो संकल्प कराया गया है, उस पर देवी-देवताओं की कृपा बरस रही है और जनकल्याण के लिए शुरू हुआ यज्ञ प्रभावी हो रहा है।


मंदिर के सन्नाटे में गूंजते मंत्र - मां विंध्यवासिनी के धाम में जहां घण्टे-घड़ियाल, जयकारे से हर पल वातावरण गूंजता रहता रहा, वहीं इन दिनों परिलक्षित हुआ खुद धाम महादेव की मौन साधना' को अपनाए हुए है।


यज्ञ कुंड के चतुर्दिक बैठे यज्ञकर्ता - यज्ञ कुंड के चारो ओर यज्ञकर्ता के रुप में विंध्यपंडा समाज के अध्यक्ष श्री पंकज द्विवेदी, उपाध्यक्ष प्रहलाद मिश्र, पूर्व अध्यक्ष धर्मेंद्र पांडेय, ईश्वर दत्त त्रिपाठी, रुपेश पांडेय, प्रकाश पाठक, प्रकाश पांडेय, प्रशांत द्विवेदी, गौतम द्विवेदी के अलावा विशेष आमंत्रित में सलिल पांडेय, विभाव भी थे। यज्ञ की पूर्णाहुति होते होते नगर विधायक रत्नाकर मिश्र, राजन पाठक आदि भी उपस्थित हुए। सभी एक स्वर से कोरोना के समूल नाश के लिए मां के बंद मंदिर में हाथ जोड़े खड़े थे जबकि अंदर श्रृंगारियाँ श्री शेखर उपाध्याय राजश्री (मध्याह्न) आरती कर रहे थे। पंडा समाज के लोग खुद अनुशासित भाव में बाहर ही खड़े रहे। यज्ञ में भी सोशल डिस्टेंसिंग की वजह से कुछ लोग यज्ञ कुण्ड से दूर ही रहे।


DM ने मंदिर खोलने के बारे में लिया मशविरा - यज्ञ की पूर्णाहुति पर DM सुशील कुमार पटेल ने पण्डा समाज के अध्यक्ष पंकज द्विवेदी को फोन कर जानना चाहा कि मंदिर खोलने के संबन्ध में पंडा समाज ने क्या राय-मशविरा की ? जिस पर श्री द्विवेदी ने पंडा समाज एवं विंध्य विकास परिषद जिसके अध्यक्ष खुद DM हैं, के साथ संयुक्त बैठक करने का अनुरोध किया। इस विमर्श के बाद 8 जून को बैठक रखी गई।


अध्यक्ष की राय - अपने सदस्यों के साथ मशविरा से अध्यक्ष श्री द्विवेदी ने फिर दोहराया कि हड़बड़ी में मंदिर नहीं खुले क्योंकि जिंदगी महत्त्वपूर्ण है। इसी के साथ सदस्यों की राय है कि अधिकतम दो गलियों से लोग दर्शन हेतु आए और दो से जाएं। प्रवेश की गलियों में थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था रहे। पंडा समाज मां के धाम में आने वाले श्रद्धालुओं की सेहतमंदी को वरीयता देने के लिए प्रतिश्रुत दिखा।


Comments
Popular posts
Mumbai : ‘काव्य सलिल’ काव्य संग्रह का विश्व पर्यावरण दिवस पर विमोचन और सम्मान पत्र वितरण समारोह आयोजित
Image
Mumbai : महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमिटी पर्यावरण विभाग के प्रदेश उपाध्यक्ष साहेब अली शेख, मुंबई अल्पसंख्यक अध्यक्ष व नगर सेवक हाजी बब्बू खान, दक्षिणमध्य जिलाध्यक्ष हुकुमराज मेहता ने किया वृक्षारोपण
Image
New Delhi :पर्यावरण संरक्षण महत्व व हमारा अस्तित्व पर 'एम वी फाउंडेशन' द्वारा विराट कवि सम्मेलन का आयोजन
Image
पेट्रोल के दामों में बढ़ोत्तरी के लिए केंद्र नहीं राज्य सरकार जिम्मेदार : भवानजी
Image
मानव पशु के संघर्ष पर आधारित फिल्म 'शेरनी' मेरे दिल के करीब है – विद्या बालन
Image