किसे ......चुनें


✍️ प्रीति शर्मा "असीम" (नालागढ़, हिमाचल प्रदेश)


जिंदगी अगर खुद को चुनती। 
फिर वो मौत का फंदा ना बुनती।


जिंदगी अगर खुद को चुनती। 
दूसरों पर रखी ,
उम्मीद जब है थमती ।।


खुद को हार कर,
जिंदगी की आस जब है जमती।।


जिंदगी अगर खुद को चुनती। 
फिर वो मौत का फंदा ना बुनती।।


जिंदगी अगर खुद को चुनती। 
कर खुद पर भरोसा ,
जब तक,
सांसों की डोर है चलती।।


साथ अपने हिम्मत से,
हर बात है बनती।


मुश्किलें दौर भी, 
आकर  चला जाएगा।
बदल अपनी सोच ,
सब कर है सकती।।


खुद से जो फिर हार गया,
अपने सामने ही,
हथियार डाल गया।
मौत उसे है चुगती।।


जिंदगी जब खुद को चुनती।
फिर वो,
जिंदगी की कहानियां ही बुनती।।


Comments
Popular posts
‘श्रीयम न्यूज नेटवर्क’ की प्रतियोगिता ‘मां की ममता’ का परिणाम घोषित, आलेख वर्ग में रीता सिंह तो काव्य वर्ग में अंजू जांगिड़ ने मारी बाजी
Image
रिपब्लिकन पार्टी के कार्यकर्ताओं को दुध एल्गर आंदोलन में शामिल होना चाहिए - केंद्रीय राज्य मंत्री रामदास आठवले
Image
बाल विकास विभाग की कारगर योजनाओं से ही कुपोषण से मिला मुक्ति, 2668 केन्द्रों पर पौष्टिक आहार के लिए बच्चों, महिलाओं व किशोरियों में आ रही जागरूकता
Image
एण्डटीवी के ‘येशु’ में कौन होगा शैतान का अगला शिकार?
Image
विश्व पीसीओएस जागरूकता माह : जरूरी है जागरूकता, बचाव एवं समय पर उपचार
Image