घरेलू महिला कामगारों की कोरोना काल की ढाई महीने की पागार दिया जाये मालिको द्वारा - सुभाष मराठे


मुंबई : घरेलू महिला कामगारों की कोरोना काल की ढाई महीने की पागार दिया जाये मालिको द्वार। सुभाष मराठे ने मुंबई के विभिन्न कामगार महिलाओं से बिल्डिंग फ्लैटों में झाड़ू,बरतन साफ करने वाले महिलाओं की ढाई महीनो की पागार बगैर काम किया दिया जाये मालिकों द्वारा ,क्योंकि राज्य शासन की और से सभी कंपनियों,फैक्ट्री,कारखाना मालिकों को पहले ही इस सरकारी आदेश का पालन करने के लिये कहा है ।कोरोना लॉक डाउन के ढाई महीने  कार्यकाल के दौरान मुंबई में अगर किसी घरेलू महिला कामगारों की पागार मई महीने तक रुकी है ।घर मालिक  पागार नहीं दे रहे हो तो ,कृपया सावित्री बाई फुले कामगार संगठना से संपर्क कर के अपने हक़ का पैसा लीजिये।ऐसा आहवाहन सावित्री बाई फुले घरेलू महिला संगठन के मुंबई अधक्षय सुभाष मराठे ने किया है ।उन्होंने कहा पूरे लॉक डाउन के ढाई महीनो से लेकर अभी तक गरीब गरजू जरूरत मंद घरेलू महिलाओं को खाने के डिब्बों से लेकर राशन किट का बड़े पैमाने पर वितरण किया है ।क्योंकि शासन की और से लॉक डाउन के ढाई महीने बगैर काम किये कामगारों को पागार मालिक द्वारा दिया जाने का आदेश होने के बाद भी ,मुंबई में ऐसे कई जगहों पर घरेलू महिलाओं कामगारों के साथ मालिक पागार नहीं दे रहे है ।इसके साथ ही उन्हें दुबारा से काम पर नहीं  रख रहे है ।कहा जाता है कि जब ढाई महीने के कोरोना लॉक डाउन के दौरान विभिन्न निजी कंपनियों ,कारखाना मालिकों ने गरीबों कामगारो की लॉक डाउन में बेरोजगारी के कारण  छाई भुखमरी से बदहाल जनता के पास अपना परिवार पालने के लिये राशन सामग्री उप्लब्ध नहीं थी।ऐसे समय मे विभिन्न सामाजिक संगठनों ने आगे आकर गरीबों की खाने के डिब्बे से लेकर राशन सामग्री उपलब्ध करवाये है ।


Comments