दो दिवसीय अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी वेबिनार


रिपोर्ट : किशोर सिंह


रूसी भारतीय मैत्री संघ दिशा, मॉस्को (रूस) एवं हिन्दू वेलफेयर फाउंडेशन, पानीपत, हरियाणा के तत्वाधान में हिन्दू वेलफेयर फाउंडेशन की शामली की अध्यक्षा डॉ मोनिका शर्मा के प्रयासों से दो दिवसीय अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी वेबिनार के तौर पर इक्कसवीं सदी में महाकवि कालिदास की प्रासंगिकता पर आयोजन किया गया।


11 जून का पहला दिन चौ गजेंद्र सिंह दहिया (गज्जु बाबा) को इस काव्य गोष्ठी में शामिल होने के मौका मिला। पहले दिन डॉ मुक्ता वाणी, डॉ चंद्रशेखर सिंह (छत्तीसगढ़), डॉ रजनीधारी (हैदराबाद), डॉ दयानिधि शाह (ओडिशा), डॉ माया दुबे, डॉ अनिता एस कानपुर, डॉ पुरुषोत्तम, डॉ बहरस्पति मिश्र, डॉ अनिल सुलभ (अध्यक्ष, बिहार हिंदी साहित्य सम्मेलन) सभी के द्वारा  आदि कवि कालिदास के संबंध में अपने-अपने विचार एवं लेख प्रस्तुत किए। वाक़ई में यह वेबिनार का पहला दिन कई प्रेणादायक बातों एवं कथनों से सुनने को रहा, जो कि कालिदास के संबंध में कई नई बातों का पता चला एवं जानकारी मिली। पहले दिन के वेबिनार में विदेशों से एवं अपने भारत देश से कई मान्यवर कवियों, लेखकों का आगमन रहा। टेक्निकल टीम से शर्मा एवं सुनील चौधरी ने बहुत ही अच्छे से वेबिनार में शामिल हुए सभी के लिए सफलतापूर्वक कार्यक्रम का आयोजन किया।


दूसरे दिन 12 जून को वेबिनार के दिन डॉ सपना एस, डॉ गीता, डॉ वरालक्ष्मी आर, डॉ सुशील कुमार आज़ाद, प्रोफ एस एस एस वी नारायणा राजू, डॉ राजेश श्रीवास्तव, डॉ आशुतोष पारीक, चौ गजेंद्र सिंह दहिया (गज्जु बाबा) हिन्दू वेलफेयर फाउंडेशन, राष्ट्रीय अध्यक्ष/संस्थापक, पानीपत, हरियाणा, डॉ सुरेश कुमार, केरल, डर शैलेन्द्र प्रकाश, नेपाल, डॉ नीना शर्मा नीदरलैंड इत्यादि ने शिरकत करते हुए आज अपने-अपने बहुमूल्य वक्तव्य एवं कविता के द्वारा उपस्थित सभी श्रोताओं को भाव विभोर कर दिया। आज का दिन वाक़ई में काफी अच्छा रहा। तकनीकी रूप से सहयोग शिवम शर्मा जी ने किया। कार्यक्रम के अंत मे राष्ट्रगान के द्वारा समापन किया गया।


Comments