" दो बूंदे "


✍️ अंजू जांगिड (पाली, राजस्थान)


जो बूंदे गिरी आसमाँ से खुद
को सम्भालने में जिंदगी बीती...!!


मेरे साथी तेरे साथ के लिये
अक्सर तरस हूँ जाती...!!


जब बरसती बरखा है तेरे
स्पर्श की याद भीगो जाती...!!


तुम सँग जो पल जिए थे
तुम्हे ढूंढने में रात है बीती...!!


बूंदे मेरे रुखसार को छूती
दबी से मुस्कान छा है जाती...!!


तुम ख्वाब सजाते हो मेरे
उन लम्हो को में जागते जीती...!!


नम आँखों की कोर वह
नमकीन सी बह जाती...!!


Comments
Popular posts
‘श्रीयम न्यूज नेटवर्क’ की प्रतियोगिता ‘मां की ममता’ का परिणाम घोषित, आलेख वर्ग में रीता सिंह तो काव्य वर्ग में अंजू जांगिड़ ने मारी बाजी
Image
रिपब्लिकन पार्टी के कार्यकर्ताओं को दुध एल्गर आंदोलन में शामिल होना चाहिए - केंद्रीय राज्य मंत्री रामदास आठवले
Image
बाल विकास विभाग की कारगर योजनाओं से ही कुपोषण से मिला मुक्ति, 2668 केन्द्रों पर पौष्टिक आहार के लिए बच्चों, महिलाओं व किशोरियों में आ रही जागरूकता
Image
एण्डटीवी के ‘येशु’ में कौन होगा शैतान का अगला शिकार?
Image
विश्व पीसीओएस जागरूकता माह : जरूरी है जागरूकता, बचाव एवं समय पर उपचार
Image