देश के सबसे बड़े दिल्ली (एम्स) अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान को विश्वभर के100 सर्वश्रेष्ठ-अस्पतालों में 52 वा दर्जा हासिल, देश में खुशी की लहर


रिपोर्ट : अनीता गुलेरिया


दिल्ली : अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान को विश्वयुद्ध स्तरीय कोरोना महासंक्रमण दौरान 21 देशों जिसमें अमेरिका, कनाडा, दक्षिण-कोरिया, जापान, फिनलैंड, डेनमार्क, स्पेन, इजरायल, थाईलैंड, सिंगापुर, जापान, स्वीडन ऑस्ट्रेलिया, फ्रांस, नीदरलैंड, यूके ब्राजील, चीन, इटली, स्विट्ज़रलैंड, जर्मनी व भारत इत्यादि देशो के शामिल रहे 70 हजार से ज्यादा चिकित्सीय-विशेषज्ञों ने इस सर्वे में अपनी सहभागिता निभाई, जिसमें मरीजो के अनुभव, सुगम चिकित्सीय-सेवाएं और विशेषज्ञों के जरिए भरे गए ऑनलाइन सर्वे के आधार पर दुनिया के सौ सर्वश्रेष्ठ अस्पतालों का चयन किया गया। जिसमें एम्स को 52 वे दर्जे पर नामांकित किया गया है।


एम्स निदेशक रणदीप गुलेरिया ने मीडिया-समक्ष बताते हुए कहा 21 देशों  की सूची में विश्व भर के सौ सफलतम अस्पतालों में भारत के अकेले अखिल भारतीय आयुर्वेदिक संस्थान को 52 वा दर्जा हासिल होना हमारे देश और संस्थान के लिए बहुत बड़े फक्र की बात है। उन्होंने इस बड़ी कामयाबी को हासिल करने का मुख्य श्रेय दिल्ली एम्स के सभी डॉक्टर, नर्सिंग स्टाफ, पैरामेडिकल स्टाफ की उर्जस्वी-कार्यशैली को दिया। रणदीप गुलेरिया अनुसार एम्स के सभी लोग सुगमता मेडिकल संबंधित उच्च कार्यशैली को अंजाम देते हुए दुनिया भर में उच्च बुलंदियों तक पहुंचाने के लिए हमेशा से अग्रसित रहते हैं। हम अपने संस्थान के जरिए देश का नाम विश्वभर में ऊंचाइयों पर ले जाने के लिए हमेशा की तरह आगे भी प्रयासरत रहेंगे, उन्होंने इस बडी कामयाबी पर खुशी जाहिर करते हुए कहा.यह खुशी अकेले संस्थान कि नहीं पूरे देश की है, हम इसमें मात्र माध्यम भर है जो अपनी तरफ से हर तरह की मेडिकल संबंधित कार्यशैली को उच्चतम व सार्थक दर्जा दिलाने के लिए पूरी तरह वचनबद्ध हैं। इस तरह उन्होंने समूचे देश को इस बड़ी सफलता के लिए बधाई का पात्र बताया। बता दें वेबसाइट न्यूज़विक डाटा काम पर प्रकाशित अस्पतालों की सूची में 2478 बिस्तरों की क्षमता वाले दिल्ली एम्स की सुगम मेडिकल सुविधाओं को लेकर जमकर तारीफ हो रही है, जो अत्यंत काबिले तारीफ है।


Comments