Delhi : लगभग पचास लाख की हिरोइन सहित अफ्रीकन नशा-तस्कर गिरफ्तार


रिपोर्ट : अनीता गुलेरिया


दिल्ली : जिला द्वारका उपायुक्त द्वारा नशा तस्करी के विरुद्ध चलाई गई मुहिम मे नशा-निरोधक दस्ता और विशेषकर कई टीमों द्वारा नशा तस्करों पर आए दिन निरंतर धरपकड़ जारी है,बता दे बहुत पहले से व लॉकडाउन के अंतराल से अभी तक द्वारका पुलिस कई करोड़ों की ड्रग्स को बरामद कर चुकी है जिसमें मोहन गार्डन थाने का विशेष-योगदान है नशा तस्करों पर शिकंजा कसने हेतु एसीपी नजफगढ़ एसीपी विजय सिंह यादव के दिशा-निर्देशन में एसएचओ बलजीत सिंह के नेतृत्व में बनी टीमे जिसमें एसआई जगबीर,सिपाही अश्वनी अजय,हवालदार मुकेश सुबह पांच बजे के करीब जिप्सी पेट्रोलिंग कर रहे थे तभी उन्होंने (55) फुटा रोड पोसवाल-चौक के पास एक अफ्रीकन मूल निवासी को संदिग्ध-अवस्था में घूमते हुए देखा,शक होने पर पुलिस द्वारा की गई पूछताछ दौरान वह कोई संतोषजनक उत्तर नहीं दे सका  पुलिस ने मौके से तलाशी दौरान  उसकी जींस की दाहिनी जेब से सफेद रंग के पॉलिथीन में ब्राउन कलर का पाउडर बरामद किया नशा-निरोधक विभाग द्वारा जांच प्रक्रिया दौरान (260 ग्राम) हाई क्वालिटी की हीरोइन पाई गई जिसके चलते पुलिस ने नशा तस्कर को हिरासत में ले लिया द्वारका डीसीपी अंटो अलफोंस अनुसार पकड़े गए आरोपित नशा तस्कर का नाम जोहन जैकस उम्र (30) अफ्रीकन मूल निवासी है और इस हाई-क्वालिटी स्मैक/ हीरोइन की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में पचास लाख है पुलिस कड़ी पूछताछ दौरान आरोपी ने अपना जुर्म कबूलते हुए बताया वह कुछ दिन पहले व्यापार-वीजा पर भारत आया था और यहां पर अफ्रीकन-नेशनल कंपनी चला रहा था । उसके अनुसार अपने बिजनेस को बढ़ाने के लिए वह नशा-तस्करी का धंधा करने लगा था वह अपनी कई अफ्रीकन दोस्त महिलाओं का खर्चा भी पूरा कर रहा था,पुलिस ने एनडीपीएस धारा तहत मामला दर्ज करते हुए आरोपी से आगे आगे की गहन तफ्तीश जारी रखते हुए आरोपी नशा तस्कर का वीजा व पासपोर्ट जब्त कर लिया है । द्वारका उपायुक्त अनुसार द्वारका इलाके के अंदर ज्यादातर अफ्रीकन मूल निवासियों द्वारा नशा तस्करी का धंधा जोरों से चल रहा है इसी के चलते हमने इस तस्करी पर पूरी तरह से लगाम कसने के लिए नशा-निरोधक दस्ते के इलावा कई विशेष-टीमों को इस तस्करी को रोकने हेतु लगा रखा है,और मुझे आज यह कहते हुए खुशी महसूस हो रही है हमारी द्वारका पुलिस नशा तस्करों पर आए दिन धरपकड़ करते हुए इस मुहिम को सार्थक रूप देने में लगी है जो अपने-आप में एक बड़ी उपलब्धि और अत्यंत सराहनीय योग्य है मेरा यह मानना है यदि नशा तस्करी रोक लगाने में हम कामयाब हो गए तो कई तरह के क्राइम पर अपने आप लगाम लग जाएगी,आज के युवा नशा तस्करी का शिकार होकर कई तरह के क्राइम को अंजाम देते हैं जो क्राइम दर के बढ़ने का मुख्य कारण है,जिसकी वजह सिर्फ नशे की लत होना पाया जाता है दिल्ली में क्राइम-ग्राफ दर को घटाने के लिए नशे पर रोक लगाना अत्यंत-आवश्यक है ।


Comments