Delhi : बड़ी वारदात को अंजाम देने जा रहे तीन कुख्यात मुजरिम गिरफ्तार


तीन लोडेड पिस्तौल, सात जिंदा कारतूस व चोरी की बुलेट मोटरसाइकिल बरामद


रिपोर्ट : अनीता गुलेरिया


दिल्ली : लॉकडाउन दौरान कोर्ट में जेल से जमानत पर बाहर आए मुजरिमों की गतिविधियों पर द्वारका जिला मे क्राइम-ग्राफ दर को कम व कंट्रोल में रखने हेतु द्वारका एएटीएस टीम पूरी तरह से निगरानी रखे हुए हैं इसी दौरान टीम के एसआई रविंद्र को गुप्त सूचना मिली कुछ हथियारबंद कुख्यात-आरोपी किसी वारदात को अंजाम देने नजफगढ़ ढासा रोड पर बने आशीर्वाद-वाटिका के पास किसी बडी वारदात को अंजाम देने आने वाले हैं सूचना के आधार पर द्वारका आप्रेशन एसीपी जोगिंद्र सिंह जून के दिशा-निर्देशन में एएटीएस टीम इंस्पेक्टर रामकृष्ण की अगुवाई एसआई कमलेश,एएसआई रणधीर सिंह,एएसआई करतार सिंह,हवलदार जितेंद्र राकेश जगत,अमित,सिपाही मनीष,सोनू अरुण व अर्जुन की टीम तुरंत कार्यवाही करते हुए ढासा रोड के आशीर्वाद वाटिका के पास जाल बिछाकर इंतजार करने लगे रात पौने आठ बजे के करीब एक बुलेट-मोटरसाइकिल पर सवार तीन युवकों को आते देखा गया सूचना-धारक के इशारा करते ही पुलिस ने इनको रुकवाते हुए जैसे ही पूछताछ करनी चाही तो तीनों ने अपनी पिस्तौल पुलिस पर तान दी और मौके से फरार होने की कोशिश करने लगे,लेकिन पहले से जाल बिछाए बैठी पुलिस ने सक्रियता-पूर्वक कार्यशैली को अंजाम देते हुए घेराव करके तीनों को अपनी गिरफ्त में लिया,मौके पर ली गई तलाशी दौरान तीनों आरोपियों से तीन लोडेड पिस्तौल व सात जिंदा-कारतूस चोरी की बुलेट मोटरसाइकिल को जब्त कर आरोपियो को पुलिस द्वारा हिरासत में ले लिया गया।



द्वारका उपायुक्त अंटो अलफोंस अनुसार पकड़े गए मुजरिमो में से एक अनिल उर्फ मोनू उम्र (30) गोपाल नगर निवासी,इस पहले से नजफगढ़ में दोहरे-हत्याकांड व दो चोरी के मामले बाबा हरिदास नगर,व द्वारका साउथ में, इसके इलावा हत्या की कोशिश मे आर्म्स-एक्ट के तहत दो मामले छावला थाने में दर्ज हैं, दूसरा सुमित डागर उम्र (26) उत्तम नगर निवासी यह बिंदापुर में हत्या केस और उत्तम नगर के चोरी मामले में लिप्त है, तीसरा संदीप उर्फ काना उम्र (23) हरियाणा के झज्जर से,इस पर मायापुरी में एक किडनैपिंग व एक चोरी का मामला दर्ज हैं। पुलिस कड़ी पूछताछ दौरान मुजरिमो ने अपना जुर्म कबूलते हुए बताया तीनो हत्या चोरी-लूटपाट व आर्म्स एक्ट तहत मामलों में जमानत पर कुछ दिन पहले ही बाहर आए है आरोपी अनिल अनुसार उसकी मुलाकात जेल में मर्डर केस मे बंद संदीप उर्फ काना से हुई थी उसने जेल से रिहाई के बाद उसे हरियाणा के अमित से मिलने को कहा था,22 जून को जेल से रिहा होने के बाद वह सोनीपत के अमित से मिला जिसने गोपाल नगर में किसी से पैसे लेने थे,और वह वापिस पैसे नहीं दे रहा था अमित ने अनिल को हथियार उपलब्ध करवाते हुए प्लानिंग तहत गोपाल नगर में उस आदमी के (200) गज प्लॉट पर कब्जा जमाने के लिए कहा,इसके लिए योजनाबद्ध तरीके से अमित के कहने पर तीनों वारदात को अंजाम देने जा रहे थे लेकिन द्वारका एटीएस टीम की सक्रिय पूर्वक की गई कार्यवाही के चलते पकड़े गए,पुलिस वाहन चोरी व आर्म्स-एक्ट तहत मामला दर्ज करते हुए आरोपियों से आगे की गहन-तफ्तीश करते हुए वारदात के (सरगना) मुख्य-आरोपी अमित को पकडने की फिराक में जुटी है। इस तरह द्वारका एएटीएस टीम ने मौके से बड़ी वारदात को होने से बचाकर अपनी सक्रियता को प्रदर्शित कर सार्थक-कार्यशैली को बखूबी अंजाम दिया,जो द्वारका पुलिस के लिए अत्यंत सराहनीय योग्य है।


Comments