16 कार्टन अवैध शराब के साथ पुलिस के हत्थे चढ़ा तस्कर, प्राइवेट कैब से करता था अवैध शराब की सप्लाई


रिपोर्ट : अनीता गुलेरिया


दिल्ली : वैश्विक-महामारी को मद्देनजर रखते हुए पुरानी सब्जी-मंडी (बस टर्मिनल) के पास सिपाही राहुल व रामनिवास रात में गश्त लगा रहे थे। सुबह तड़के पौने एक बजे के करीब एक वैगनआर कार प्राइवेट टैक्सी को तेज-गति से आते हुए देखा गया।कैब ड्राइवर की संदिग्ध गतिविधियों के चलते पुलिस ने उसे चेकिंग के लिए जैसे ही रुकने का इशारा किया, तो कार-चालक ने गाड़ी को रोकने की बजाए उसे तेज गति से (यूटर्न) की तरफ घुमाते हुए कार को तेज रफ्तार से दौडाते हुए फरार होने की कोशिश करने लगा। तभी पुलिस-स्टाफ ने सक्रियता-पूर्वक पीछा करते हुए कुछ दूरी पर गाड़ी सहित ड्राइवर को अपनी गिरफ्त में ले लिया। मौके पर तलाशी के दौरान गाड़ी के अंदर से 16 कार्टन इंपैक्ट-ग्रीन व्हिस्की की 768 आध-पव्वे की बोतलें भारी मात्रा में अवैध-शराब बरामद करते ही वैगनआर गाड़ी को जब्त करते हुए आरोपी शराब तस्कर को हिरासत में ले लिया।


एडिशनल डीसीपी आरपी मीना अनुसार पकड़े गए आरोपी की आरोपी शराब-तस्कर की पहचान शक्ति सिंह उम्र (30) डाबड़ी एक्सटेंशन नई दिल्ली का रहने वाला है। कड़ी-पूछताछ दौरान आरोपी ने अपना जुर्म कबूलते हुए बताया कि वह पेशे से ड्राइवर है। लाकडाउन दौरान बेरोजगार हो गया था। ज्यादा पैसा कमाने के इरादे से उसने यह कैब दीपक नाम के शख्स से किराए पर ली थी। आरोपी ने बताया कि वह प्राइवेट-कैब का इस्तेमाल शराब तस्करी के लिए इसलिए करता था। क्योंकि कैब-सवारी होने की वजह से पुलिस वाले ज्यादातर तलाशी पर ध्यान नहीं देते। इसलिए पुलिस की निगाहों से बचने के लिए वह प्राइवेट-कैब में स्मगलिंग व शराब तस्करी करता था। आरोपी-तस्कर अनुसार वह बहादुरगढ़ से सस्ते दामों पर शराब लाकर केंद्रीय दिल्ली इलाकों में अवैध-शराब सप्लाई करता था। आज वह बहादुरगढ़ से शराब लेकर दिल्ली में सप्लाई करने जा रहा था, लेकिन पुलिस की सख्त-चौकसी के चलते पकड़ा गया बाबा हरिदास नगर पुलिस आरोपी तस्कर पर दिल्ली आबकारी-एक्ट 33/38/58 D तहत मामला दर्ज करते हुए आगे की तफ्तीश में जुटी है।


बता दें लॉकडाउन दौरान हरियाणा-बॉर्डर से भारी मात्रा में अवैध-शराब सहित पकड़े गए आरोपित-तस्करों ने सख्त-वाहन चेकिंग के चलते शराब तस्करी के कई तरह के नायाब तरीके अपनाएं,लेकिन पुलिस की सतर्क, कड़ी-चौकसी दौरान तस्करों के सभी नायाब तरीके एकदम-धराशाई होते नजर आए।


Comments