संत शिरोमणि पंडित देवप्रभाकर शास्त्री दद्दाजी का देवलोक गमन, संत के महाप्रयाण से हर कोई स्तब्ध


कटनी स्थित दद्दाधाम में त्यागी देह, देशभर में फैले लाखों शिष्यों में शोक की लहर, 


रिपोर्ट : शशिकांत दूबे


कटनी (म0प्र0) : समूचे देश मे आध्यात्मिक पताका फहराने वाले मानस मर्मज्ञ गृहस्थ संत पंडित देवप्रभाकर शास्त्री दद्दाजी जी ने आज रात्रि लगभग 8 बजकर 36 मिनट पर देह त्याग कर परमधाम को प्रस्थान किया। उनके देवलोक गमन की सूचना मिलते ही देशभर में मौजूद उनके लाखों शिष्यों में गहन शोक व्याप्त हो गया। दद्दाधाम में आज सुबह दूर दूर से उनके शिष्यों का आना जारी रहा। अनेक विशिष्ट हस्तियों ने कटनी पहुंचकर उनके दर्शन किये।


पूज्य दद्दाजी का स्वास्थ्य कुछ दिनों से खराब चल रहा था। फेफड़ों और किडनी में इंफेक्शन की वजह से उन्हें दिल्ली के एम्स हॉस्पिटल ले जाया गया था। विशेषज्ञ चिकित्सकों ने काफी इलाज के बाद सुधार न होता देख उन्हें घर ले जाने की सलाह दे दी थी। कल रात ही एयर एम्बुलेंस से उन्हें जबलपुर होते हुए कटनी लाया गया था। जीवन रक्षक प्रणाली के बीच कटनी स्थित दद्दाधाम में भी विशेषज्ञों की टीम उनके उपचार में जुटी हुई थी। दोपहर में उनका डायलिसिस भी किया गया। उनके स्वास्थ में सुधार की कुछ उम्मीद जागी लेकिन रात्रि साढ़े 8 बजे के आसपास पूज्यपाद दद्दाजी ने अंततः देह त्यागकर देवलोक गमन किया।


विश्व कल्याण की कामना के साथ पूज्य दद्दा जी ने शिवलिंग निर्माण के 129 महायज्ञ सम्पन्न कराए। इसके अलावा 50 से ज्यादा अन्य यज्ञों और श्रीमद्भागवत के आयोजनो से उन्होंने समूचे देश मे धर्म की ज्योति प्रज्ज्वलित की। एक जानकारी के मुताबिक दद्दाजी जी के 18 लाख से ज्यादा दीक्षित शिष्य तथा बड़ी संख्या में देशभर में उनके अनुयायी हैं। शिष्यों में राजनेता, फ़िल्म अभिनेता, पत्रकार, उद्योगपति, समाजसेवी तथा सभी वर्गों के लोग शामिल हैं।


Comments