प्रशासन की ओर से लंच पैकेट की व्यवस्था के दावे भी फेल


रिपोर्ट : तनवीर खान


उन्नाव (उ0प्र0) : कोरोना संकट के चलते गुजरात राज्य से शुक्रवार को आई ट्रेन से लौटे उन्नाव जिले के ब्लॉक बीघापुर व सुमेरपुर ब्लॉक के 100 प्रवासियों को शहर के मोहल्ला गीतापुरम में बने आदर्श विद्या मंदिर में क्वारंटीन किया गया है। श्रमिकों ने बताया कि शुक्रवार शाम चार बजे ट्रेन आने के बाद रात 11 बजे उन्हें क्वारंटीन सेंटर लाया गया। रात में न उन्हें नाश्ता दिया गया और न ही खाना। कमरों में भी बिस्तर न होने से टूटी फर्श पर उन्हें रात भर लेटना पड़ा। शनिवार सुबह 12.30 बजे तक उन्हें खाना नहीं दिया। महिलाएं, बच्चे व युवक सभी भूख से परेशान नजर आए। लोगों ने बताया कि 14 घंटे में शाम और सुबह सिर्फ एक-एक पैकेट बिस्कुट व चाय दी गई। लोगों ने बताया की यही स्थिति तो जेल में रहने वाले कैदियों की भी नहीं की जाती है। उन्हें भी खाने पीने की सुविधा दी जाती है। हम लोगों के लिए तो जेल से भी बड़ी सजा जैसी स्थिति बन गई है।


एसडीएम सदर दिनेश कुमार सिंह ने कहा कि खाना उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी सिंचाई विभाग के एसडीओ को दी गई थी। समय पर खाना न पहुंचाने का कारण उनसे पूछा जाएगा। खबर लिखने तक सिंचाई विभाग के एसडीओ से जानकारी नहीं हो पाई। अब सवाल यह उठता है कि भारत सरकार द्वारा प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री जो कि बड़े-बड़े दावे कर रहे हैं प्रशासन को भी सख्ती से निर्देश दे रहे हैं कि जो गरीब मजदूर प्रवासी अपने घर वापस जा रहे हैं उनकी पूरी सहयोग किया जाए और उनको क्वॉरेंटाइन करा कर उनके खाने-पीने की पूरी जिम्मेदारी रखी जाए। जिला अधिकारी रविंद्र कुमार के निर्देशों की धज्जियां उड़ाते हुए नजर आए सिंचाई विभाग के एसडीओ। देखना यह है की आए हुए श्रमिकों कब राहत मिलती है और इस पर किस तरह की एसडीओ से पूछताछ होगी।


Comments
Popular posts
Mumbai : ‘काव्य सलिल’ काव्य संग्रह का विश्व पर्यावरण दिवस पर विमोचन और सम्मान पत्र वितरण समारोह आयोजित
Image
Mumbai : महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमिटी पर्यावरण विभाग के प्रदेश उपाध्यक्ष साहेब अली शेख, मुंबई अल्पसंख्यक अध्यक्ष व नगर सेवक हाजी बब्बू खान, दक्षिणमध्य जिलाध्यक्ष हुकुमराज मेहता ने किया वृक्षारोपण
Image
New Delhi :पर्यावरण संरक्षण महत्व व हमारा अस्तित्व पर 'एम वी फाउंडेशन' द्वारा विराट कवि सम्मेलन का आयोजन
Image
पेट्रोल के दामों में बढ़ोत्तरी के लिए केंद्र नहीं राज्य सरकार जिम्मेदार : भवानजी
Image
मानव पशु के संघर्ष पर आधारित फिल्म 'शेरनी' मेरे दिल के करीब है – विद्या बालन
Image