Mumbai : मां विंध्यवासिनी देवी मंदिर के माध्यम से प्रति दिन सैकड़ों लोगों को कराया जा रहा है भोजन 



  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब तक लॉक डाउन बढ़ाएंगे तब तक मंदिर संरक्षक तैयार है जरूरत मन्दो को भोजन कराने के लिए : मंदिर संरक्षक

  • हर धर्म, जाति, समुदाय के लोग यहां आकर भोजन कर सकते है : राकेश उपाध्याय

  • मंदिर मे किसी भी नगर सेवक, आमदार (विधायक), सांसद, नेताओं का किसी भी तरह का योगदान नहीं है - भरत शुक्ल


रिपोर्ट: शकील शेख


मुंबई : कॅरोना वायरस वैश्विक महामारी के कारण सरकार को लॉक डाउन का तीसरा चरन लागू करना पड़ा ऐसे में प्रवासी मजदूरों गरीबों की खाने की समस्या बढ़ती जा रही है और यह समस्या बढ़ना स्वभाविक है। क्योंकि लॉक डाउन के कारण मुंबई में रोजगार ठप हो गया है, जिसके कारण प्रवासी मजदूरों और गरीबों को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि कई संगठनों ने प्रवासी मजदूरों और गरीबों के लिए खाना जरूरत के समान उपलब्ध कर रहे है।



मुंबई के सायन कोलीवाड़ा स्थित मां विंध्यवासिनी देवी मंदिर के माध्यम से प्रति दिन सैकड़ों लोगों को भोजन कराया जा रहा है। मंदिर संरक्षक और सदस्यों ने बताया कि हम प्रवासी मजदूरों और गरीबों की सेवा में दिन रात लगे हुए है। मंदिर परिसर में भोजन बनाया जाता है। यहां बनाया गया भोजन किसी एक विशेष समुदाय के लिए नहीं है, बल्कि हर प्रवासी मजदूर, गरीब, भूखा, जरूरत मंद के लिए है। मंदिर संरक्षक एवं सदस्यों ने बताया कि सभी संरक्षक और सदस्य साथ देने के लिए तैयार है।


मंदिर सदस्यों ने बताया कि भोजन सामग्री के लिए जो भी खर्चा हो रहा है, वह मंदिर के संरक्षक बड़े भाई पंडित सुरेंद्र त्रिपाठी जी, पंडित दिलीप दूबे जी, पंडित अनिल शुक्ल जी, पंडित बाबा शुक्ल जी, पंडित रमेश शुक्ल जी, पंडित दिनेश दुबे जी, पंडित सुनिल शुक्ला जी, पंडित देवनारायण तिवारी जी, पंडित विनोद शुक्ल जी, पंडित राकेश उपाध्याय जी, संतोष कुमार जी, मंदिर परिवार के सदस्य पंडित कुलदीप तिवारी जी, लालमणि दुबे जी, प्रदीप चौबे जी, ऋषी शुक्ल जी, मनोज राय (गुरु नानक), विजय तिवारी, धर्मेंद्र शर्मा,एस पी यादव, चंदन गुप्ता, सुनील ओझा, प्रभाकर त्रिपाठी, जय प्रकाश उपाध्याय, महेन्द्र सिंह, बबलू मिश्रा, समस्त देवी मंदिर परिवार संस्थापक अध्यक्ष भरत शुक्ल के मार्ग दर्शन में भोजन (खाना) बनाने, भोजन कराने, और भोजन पार्सल बनाने में, अनाज का पार्सल किट बनाने मे अपना अथक योगदान दे रहे है। मंदिर संरक्षक ने बताया कि भोजन वितरण का कार्यक्रम 24 मार्च से लगातार चल रहा है और जब तक लॉक डाउन रहेगा तब तक हम भोजन वितरण करते रहेंगे।



संस्थापक अध्यक्ष भरत शुक्ल ने मोबाइल नंबर जारी करते हुए कहा है कि जो भी पर प्रवासी मजदूर, गरीब, भूखे, जरूरत मंद लोग हैं वह लोग मोबाइल नंबर 9323807417, 9967051965 पर संपर्क कर सकते है। मंदिर के माध्यम से प्रति दिन दोपहर 11.30 से 1.30 बजे तक और रात 7.30 से 10.30 बजे तक भोजन का वितरण किया जा रहा है।


Comments