"कोरोना के योद्धाओं को, मैं प्रणाम करती हूँ"


✍️  प्रीति शर्मा "असीम "


कोरोना के योद्धाओं को,
मैं प्रणाम करती हूँ।


लड़ रहा विश्व,
आज जिस त्रासदी से, 
आगे आएं,
इन मनुज अवतारों की,
भूमिका को सलाम करती हूँ।


उन डॉक्टरों,
पुलिस अधिकारियों, 
सफाई कर्मचारियों और
खाना पहुंचाने वाले,
अनगिनत सेवकों का,
स्मरण करती हूँ।


कोरोना के योद्धाओं को,
मैं प्रणाम करती हूँ।


कोरोना के योद्धाओं को,
मैं प्रणाम करती हूँ।


डर रहा विश्व आज,
जिस वायरस से,
घरों में बैठे तमाम,
बच्चों -बूढ़ों की,
आशाओं का आह्वान करती हूँ।


कोरोना के योद्धाओं को,
मैं प्रणाम करती हूँ।
जीत जायेंगे,
हम इस लड़ाई में,
विश्व विजयी अपने,
योद्धाओं का सम्मान करती हूँ।


कोरोना के योद्धाओं को,
मैं प्रणाम करती हूँ।


Comments