इस घड़ी ने ...घड़े की


✍️  प्रीति शर्मा "असीम" (नालागढ़, हिमाचल प्रदेश)


इस घड़ी ने घड़े की,
कीमत बता दी।


जो लोग...
मिट्टी से टूट चुके थे। 
मिट्टी ने,
आज अपनी,
उनको अहमियत बता दी।


इस घड़ी ने,
घड़े की कीमत बता दी।


युगों-युगों से यह बताते रहे।
साथ मिट्टी के जीवन गीत गाते रहे।


इस घड़ी ने,
घड़े की कीमत बता दी।


जो लोग भूल चुके थे।
आधुनिकता की दौड़ में,
घड़ा याद आता था।
अंतिम समय के मोड पे।


आज वही घड़ा याद आ रहा है। 
जीवन घड़ी के,
इस छोर से उस छोर में।


***********


Comments
Popular posts
Mumbai : ‘काव्य सलिल’ काव्य संग्रह का विश्व पर्यावरण दिवस पर विमोचन और सम्मान पत्र वितरण समारोह आयोजित
Image
Mumbai : महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमिटी पर्यावरण विभाग के प्रदेश उपाध्यक्ष साहेब अली शेख, मुंबई अल्पसंख्यक अध्यक्ष व नगर सेवक हाजी बब्बू खान, दक्षिणमध्य जिलाध्यक्ष हुकुमराज मेहता ने किया वृक्षारोपण
Image
New Delhi :पर्यावरण संरक्षण महत्व व हमारा अस्तित्व पर 'एम वी फाउंडेशन' द्वारा विराट कवि सम्मेलन का आयोजन
Image
पेट्रोल के दामों में बढ़ोत्तरी के लिए केंद्र नहीं राज्य सरकार जिम्मेदार : भवानजी
Image
मानव पशु के संघर्ष पर आधारित फिल्म 'शेरनी' मेरे दिल के करीब है – विद्या बालन
Image