आपकी यादें तो हम पर यूँ गज़ब ढाने लगीं… गज़ल


✍️  रंजना मिश्रा, (कानपुर, उत्तर प्रदेश)


आपकी यादें तो हम पर यूँ गज़ब ढाने लगीं
होश खो बैठे हैं हम मदहोशियांँ छाने लगीं


रात दिन बस आपके ही ख्वाब में बैठे हैं हम
ये हवाएंँ भी संदेशा आपका लाने लगीं


हर नज़र को आपके दीदार का है इंतजार
ये तरन्नुम सी फिजाएंँ भी हैं मुस्काने लगीं


इन मचलती धड़कनों को हम संभालें किस तरह
आपकी दीवानगी का ये कहर ढाने लगीं


हाले ग़म किसको सुनाएँ हम भला बतलाइए
इश्क की ये बंदिशें भी अब हमें भाने लगीं


अश्क आंँखों में उतर कर बह रहे हैं इस तरह
कश्तियाँ साहिल से आकर के ज्यों टकराने लगीं


Comments
Popular posts
Mumbai : ‘काव्य सलिल’ काव्य संग्रह का विश्व पर्यावरण दिवस पर विमोचन और सम्मान पत्र वितरण समारोह आयोजित
Image
Mumbai : महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमिटी पर्यावरण विभाग के प्रदेश उपाध्यक्ष साहेब अली शेख, मुंबई अल्पसंख्यक अध्यक्ष व नगर सेवक हाजी बब्बू खान, दक्षिणमध्य जिलाध्यक्ष हुकुमराज मेहता ने किया वृक्षारोपण
Image
New Delhi :पर्यावरण संरक्षण महत्व व हमारा अस्तित्व पर 'एम वी फाउंडेशन' द्वारा विराट कवि सम्मेलन का आयोजन
Image
पेट्रोल के दामों में बढ़ोत्तरी के लिए केंद्र नहीं राज्य सरकार जिम्मेदार : भवानजी
Image
मानव पशु के संघर्ष पर आधारित फिल्म 'शेरनी' मेरे दिल के करीब है – विद्या बालन
Image